B1617 कोविड वैरिएंट महामारी को और बढ़ा सकता है

B1617 कोविड वैरिएंट 18 महीने पहले वुहान में पहली बार दिखाई देने वाले स्ट्रेन की तुलना में डेढ़ से दो गुना अधिक संक्रामक है| और यह दुनिया भर में 'भयावह गति' से फैल रहा है| विशेषज्ञों के नवीनतम आकलन के अनुसार, विशेष रूप से कम टीकाकरण दर वाले देशों में बी1617 वैरिएंट महामारी को और बढ़ा सकता है।

0 10

B1617 कोविड वैरिएंट 18 महीने पहले वुहान में पहली बार दिखाई देने वाले स्ट्रेन की तुलना में डेढ़ से दो गुना अधिक संक्रामक है| और यह दुनिया भर में ‘भयावह गति’ से फैल रहा है| विशेषज्ञों के नवीनतम आकलन के अनुसार, विशेष रूप से कम टीकाकरण दर वाले देशों में B1617वैरिएंट महामारी को और बढ़ा सकता है।

स्ट्रेट टाइम्स की  रिपोर्ट के मुताबिक B1617 स्ट्रेन दुनिया भर में तेजी से प्रभावी होता जा रहा है और यह आखिरी बार नहीं होगा जब ये वायरस म्यूटेंट होगा।

विशेषज्ञों का कहना है कि B1617 एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ज्यादा आसानी से फैलने के लिए उत्परिवर्तित हुआ है, और टीकों के साथ-साथ प्राकृतिक संक्रमण से सुरक्षा को कम कर सकता है।

नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर (एनयूएस) सॉ स्वी हॉक स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के डीन टीओ यिक यिंग के हवाले से कहा गया कि “किस भयावह से ये वैरिएंट समुदाय के भीतर व्यापक रूप से फैलने और प्रसारित करने में सक्षम है। इसमें दुनिया भर में एक बड़ी महामारी फैलाने की झमता है जिसे अबतक नहीं देखा गया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, वैरिएंट, जिसे पहली बार अक्टूबर 2020 में भारत में पाया गया था, अब 50 से अधिक देशों में मौजूद है। ये संक्रमण पैदा करने वाले अन्य उपभेदों को पार कर रहा है। इस महीने की शुरूआत में, वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने इसे ‘वैश्विक चिंता का एक प्रकार’ घोषित किया।

रिपोर्ट के मुताबिक 18 महीने पहले वुहान में पहली बार दिखाई देने वाले स्ट्रेन की तुलना में यह स्ट्रेन 1.5 गुना से दो गुना अधिक ट्रांसमिसिबल है। बी1617 के तीन संस्करण हैं – बी1617 1, बी16172 और बी16173। दूसरा संस्करण सबसे अधिक प्रासंगिक है क्योंकि यह स्थानीय मामलों के साथ-साथ विश्व स्तर पर रिपोर्ट किए गए बी16171 से आगे निकल गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि तीसरा संस्करण, B16173, दुर्लभ है।

हालांकि यह स्पष्ट नहीं है किB1617अधिक गंभीर बीमारी या मौतों का कारण बनता है|

सबसे अच्छा हथियार व्यापक टीकाकरण है। टीके लगाए गए व्यक्तियों में संक्रमित होने की और गंभीर लक्षण विकसित होने की संभावना बहुत कम होती है, भले ही वे संक्रमित हों।

लेकिन  अधिकांश देश, दुर्भाग्य से, अपने लोगों को टीका लगाने में बहुत पीछे हैं क्योंकि वैक्सीन आपूर्ति और वितरण में वैश्विक असमानता बनी हुई है।

डब्ल्यूएचओ के ग्लोबल आउटब्रेक अलर्ट एंड रिस्पांस नेटवर्क के अध्यक्ष प्रोफेसर डेल फिशर ने कहा कि इसका मतलब है कि B1617 के उन देशों में रेंगने की अधिक संभावना है जो पहले कोविड -19 से कम से कम प्रभावित थे। (deshdesk)

Leave A Reply

Your email address will not be published.