शोध: 20 हजार बरस पहले कोरोनावायरस ने मचाई थी तबाही

कोरोना वायरस के चीन के वुहान लेब में जन्म लेने के चर्चाओं के बीच एक नए शोध में खुलासा किया गया है कि दुनिया में कोरोनावायरस ने 20 हजार बरस पहले पूर्वी एशिया में तबाही मचाई थी| मानव जीनोम के एक अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन से यह बात सामने आई है|  इस महामारी के वंशज ने पिछले डेढ़ साल में 30 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है| 

0 46

- Advertisement -

deshdijital

कोरोना वायरस के चीन के वुहान लेब में जन्म लेने के चर्चाओं के बीच एक नए शोध में खुलासा किया गया है कि दुनिया में कोरोनावायरस ने 20 हजार बरस पहले पूर्वी एशिया में तबाही मचाई थी| मानव जीनोम के एक अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन से यह बात सामने आई है|  इस महामारी के वंशज ने पिछले डेढ़ साल में 30 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है|

मिडिया रिपोर्ट  के मुताबिक क्वींसलैंड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, एडिलेड विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय सैन फ्रांसिस्को, और एरिजोना विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कहा, अध्ययन में पाया गया कि महामारी, पूर्वी एशिया के चीन, जापान, मंगोलिया, उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया और ताइवान के लोगों के आनुवंशिक मेकअप में निशान छोड़ गया |

सीएसआईआरओ-क्यूयूटी सिंथेटिक बायोलॉजी एलायंस के प्रोफेसर किरिल अलेक्जेंड्रोव ने कहा, “आधुनिक मानव जीनोम में हजारों साल पहले की विकास संबंधी जानकारी होती है, जैसे किसी पेड़ के छल्ले का अध्ययन करने से हमें उन परिस्थितियों के बारे में जानकारी मिलती है जो उसने अनुभव की थीं।”

पिछले 20 वर्षों में, कोरोना वायरस तीन प्रमुख प्रकोपों के लिए जिम्मेदार हैं – सार्स-सीओवी जो गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम की ओर ले जाता है, जिसकी उत्पत्ति 2002 में चीन में हुई थी और 800 से अधिक लोगों की मौत हुई थी। मार्स-सीओवी मध्य पूर्व रेस्पिरेटरी सिंड्रोम की ओर अग्रसर किया, जिसने 850 से अधिक लोगों को मार डाला, और वर्तमान सार्स-सीओवी-2 ने कोविड -19 की ओर अग्रसर किया, जिसने अब तक विश्व स्तर पर 3.9 मिलियन लोगों की जान ले ली है।

जर्नल करंट बायोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन के लिए, टीम ने दुनिया भर की 26 आबादी के 2,500 से अधिक आधुनिक मनुष्यों के जीनोम का विश्लेषण किया, ताकि यह समझा जा सके कि इंसानों ने ऐतिहासिक कोरोनावायरस के प्रकोप के लिए कैसे अनुकूलन किया है।

- Advertisement -

टीम को एक विशिष्ट प्रकार के प्रोटीन की भूमिका मिली, जिसे वीआईपी (वायरस-इंटरेक्टिंग प्रोटीन) के रूप में जाना जाता है – प्रोटीन जो सेलुलर मशीनरी का हिस्सा हैं जो शरीर में प्रवेश करने वाले वायरस के साथ इंटरेक्ट करते हैं। मानव विकास के लाखों वर्षों में, प्राकृतिक चयन ने जीन के अन्य वर्गों के लिए वायरस-इंटरेक्टिंग प्रोटीन (वीआईपी) को एन्कोडिंग करने वाले जीन वेरिएंट का निर्धारण किया है।

अध्ययन में, एक शोधकर्ताओं ने वीआईपी को एन्कोडिंग करने वाले 42 विभिन्न मानव जीनों में अनुकूलन के संकेत पाए।

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक यूनिवर्सिटी ऑफ एडिलेड के स्कूल ऑफ बायोलॉजिकल साइंसेज के प्रमुख लेखक डॉ यासीन सौइल्मी ने कहा, “हमें पूर्वी एशिया से पांच आबादी में वीआईपी सिग्नल मिले और सुझाव दिया कि आधुनिक पूर्वी एशियाई लोगों के पूर्वज 20,000 साल पहले पहली बार कोरोनावायरस के संपर्क में आए थे।”

अध्ययन यह समझने में मदद करता है कि विभिन्न मानव आबादी के जीनोम कैसे वायरस के अनुकूल होते हैं, जिन्हें हाल ही में मानव विकास के एक महत्वपूर्ण चालक के रूप में मान्यता दी गई है। यह उन विषाणुओं की पहचान करने में भी मदद कर सकता है जिन्होंने सुदूर अतीत में महामारी पैदा की है।

यूनिवर्सिटी ऑफ एरिजोना के एसिसटेंट प्रोफेसर डेविड एनार्ड पहले भी इसके बारे में कह चुके हैं कि वायरस भी इंसानों की तरह पीढ़ी दर पीढ़ी अपने नए जीनोम के जरिए आगे बढ़ते रहे हैं. सिर्फ वायरस ही नहीं ये प्रक्रिया हर प्रकार के पैथोजेन (Pathogens) यानी रोगजनकों के साथ होती है. यानी हर प्रकार के रोगाणुं अपनी पीढ़ियों में लगातार बदलाव करते हैं  ताकि वो भी प्रकृति में जी सकें| जल्द होने वाले बदलाव को म्यूटेशन और देर से होने वाले बदलाव को इवोल्यूशन कहते हैं|

म्यूटेशन को लेकर भारतीय डाक्टरों, विशेषज्ञों  ने भी corona के इसी तरह के बदलाव से आगाह कर चुके हैं|

Leave A Reply

Your email address will not be published.