माधवपुर घेड़ में कृष्ण से किसने विवाह किया? राधा या रुक्मणी?

माधवपुर घेड़ में कृष्ण से किसने विवाह किया? राधा या रुक्मणी? इसी मिथक पर गुजरात के माधवपुर में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा विवाह मेला गुजरात की संस्कृति का एक हिस्सा है । जिसका आयोजन हर साल किया जाता है।यह मेला रामनवमी से शुरू होता है और पांच दिन तक चलता है।   राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 10 अप्रैल को इस मेले का उद्घाटन करेंगे ।

0 332

- Advertisement -

पोरबंदर के पास माधवपुर घेड़ में, गांववाले अभी भी “चैत्र” के महीने में भगवान कृष्ण और रुक्मणी के विवाह का जश्न मनाते हैं। एक सप्ताह तक चलने वाले इस रंगारंग आयोजन में कलाकारों द्वारा फिर से कृष्ण-रुक्मिणी का शादी कराई जाती है। माधवपुर मेला हर साल पारंपरिक रूप से मनाया जाता है। माधवपुर घेड़ अभी तक हमारे देश में लोकप्रिय नहीं है लेकिन इसका धार्मिक महत्व द्वारका और मथुरा से कम नहीं है। आइए भगवान कृष्ण और रुक्मणी के विवाह को आध्यात्मिक रूप से मनाएं।

माधवपुर घेड़ में कृष्ण से किसने विवाह किया? राधा या रुक्मणी? इसी मिथक पर गुजरात के माधवपुर में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा विवाह मेला गुजरात की संस्कृति का एक हिस्सा है । जिसका आयोजन हर साल किया जाता है।यह मेला रामनवमी से शुरू होता है और पांच दिन तक चलता है।   राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 10 अप्रैल को इस मेले का उद्घाटन करेंगे

गुजरात की संस्कृति में कई ऐतिहासिक और धार्मिल पहलू हैं जो इसे विशेष बनाते हैं। गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतू वघानी ने बताया, “गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और राज्यपाल आचार्य देवव्रत भी इस मौके पर मौजूद रहेंगे। परंपरा के अनुसार, भगवान कृष्ण का विवाह 13 अप्रैल को होगा और 14 अप्रैल को बाहर एक जुलूस निकाला जाएगा। राज्य सरकार ने माधवराय मंदिर के विकास के लिए 30 करोड़ रुपये भी आवंटित किए हैं।

इस मेले से जुड़ी राधा और कृष्ण की अमर प्रेम कहानी की तुलना में भगवान कृष्ण और रुक्मणी के विवाह के बारे में लोगों को कम जानकारी है। भगवान कृष्ण के अनुयायियों के मन में कई सवाल उठते हैं कि उन्होंने रुक्मणी से शादी क्यों की जब उनका हृदय और आत्मा राधा के साथ बंधा था?

एक बात तो पक्की है कि कृष्ण के जीवन दर्शन को समझना आसान नहीं है। वे अपना हर निर्णय बहुत सोच-समझकर और पूरा गणित करके लेते थे। वह अपना हर निर्णय मानवता के महत्व को समझकर लेते थे। हम यहां राधे-कृष्ण की प्रेम कहानी पर चर्चा नहीं कर रहे हैं, बल्कि इस बात को लेकर उत्सुक हैं कि रुक्मिणी कैसे कृष्ण का ध्यान खींचने और उनकी पहली पत्नी बनने में सफल रही।

राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी

क्या यह केवल नियति थी या स्वयं भगवान कृष्ण ने जानबूझकर ऐसा किया था? राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी लोकप्रिय है लेकिन रुक्मणी और कृष्ण के बीच विवाह का वास्तविक कारण उनके लाखों अनुयायियों को भी नहीं पता है। रुक्मणी उनकी पहली पत्नी तो बनीं लेकिन उन्हें भगवान कृष्ण के जीवन, कहानी या यहां तक कि उनके मंदिरों में उचित स्थान कभी नहीं मिला। आइए बात करते हैं रुक्मणी और भगवान कृष्ण के साथ उनके विवाह के बारे में।

रुक्मिणी या रुक्मणी (संस्कृत: रुक्मिणी) विदर्भ की राजकुमारी थीं और वह द्वारका के राजकुमार भगवान कृष्ण की पहली पत्नी या पटरानी थीं। कृष्ण ने वीरतापूर्वक उनका अपहरण कर लिया और उसके साथ भाग गए क्योंकि वे एक-दूसरे से प्यार करते थे लेकिन उसके भाई रुक्मी ने ईर्ष्या के कारण उनकी शादी मानने से इनकार कर दिया था।

रुक्मी ने ऐसा इसलिए किया था क्योंकि कृष्ण ने अपने मामा कंस को मार डाला था जो रुक्मी का दोस्त भी था। उसने अपनी बहन रुक्मिणीदेवी का अवांछित विवाह दुष्ट शिशुपाल के साथ करने की योजना बनाई थी। शिशुपाल, कृष्ण का चचेरा भाई भी था (वह चेदि साम्राज्य के राजा थे जबकि श्री कृष्ण अभी तक राजा नहीं थे)। ये सब जब हो रहा था तब रुक्मिणी ने कृष्ण को एक सुंदर प्रेम पत्र लिखा कि वे आकर उन्हें राक्षस की तरह अपहृत कर ले जाएं (भागवत पुराण, विष्णु पुराण, हरिवंश, महाभारत में वर्णित)।

देवी लक्ष्मी के अवतार

पारंपरिक खातों के अनुसार, राजकुमारी रुक्मिणी का जन्म वैशाख 11 (वैशाख एकादशी) को माना जाता है। यद्यपि वह सांसारिक रूप से राजा के घर पैदा हुई थी लेकिन ऐतिहासिक पुराणों में उन्हें देवी लक्ष्मी के अवतार के रूप में वर्णित किया गया है:-

रुक्मिणीदेवी, कृष्ण की रानी शक्ति स्वरूप (मूलप्रकृति) हैं, जो कृष्ण (कृष्णात्मिक) की शक्ति हैं और वह दिव्य दुनिया (जगतकत्री), द्वारका / वैकुंठ की रानी / माता हैं। वह हरिद्वार में शक्तिशाली राजा भीष्मक की बेटी के रूप में पैदा हुई तथा वैदिक आर्य जनजाति की शाही राजकुमारी बनीं।

श्रुति (गोपाल-तपनि उपनिषद 57), जो स्वयं-रूप भगवान श्री कृष्ण, परब्रह्म के साथ व्रज-गोपियों की लीलाओं के वर्णन के साथ जुड़ी हुई हैं, ने इस सत्य की पुष्टि की है कि उन्हें अलग नहीं किया जा सकता है। जैसे लक्ष्मी विष्णु की शक्ति (शक्ति या शक्ति) है, वैसे ही रुक्मिणी कृष्ण की शक्ति हैं।

रुक्मिणी इडु-मिश्मी जनजाति

अरुणाचल प्रदेश की इडु-मिश्मी जनजाति का मानना है कि रुक्मिणी इडु-मिश्मी जनजाति की थीं। रुक्मिणी के माता-पिता उनका विवाह कृष्ण से करना चाहते थे लेकिन उनके भाई रुक्मी ने इस बात का कड़ा विरोध किया। रुक्मी एक महत्वाकांक्षी राजकुमार था और वह क्रूर सम्राट जरासंध के क्रोध का पात्र नहीं बनना चाहता था। इसलिए उसने प्रस्ताव दिया कि वह अपनी बहन रुक्मी का विवाद छेदी के राजकुमार और कृष्ण के चचेरे भाई शिशुपाल से करा देगा। शिशुपाल, जरासंध का जागीरदार और करीबी सहयोगी था और इसलिए रुक्मी के साथ भी उसकी दोस्ती थी।

- Advertisement -

भीष्मक ने मना कर दिया लेकिन रुक्मिणी इस बातचीत को सुनने के बाद भयभीत हो गई थी। उसने तुरंत अपने विश्वासपात्र एक ब्राह्मण और सुनंदा को पत्र लिखकर दिया और उसे कृष्ण  तक पहुंचाने को कहा। रुक्मिणी ने पत्र में कृष्ण को सारी बात बताते हुए विदर्भ आकर उनका अपहरण करके के लिए कहा।

रुक्मिणी ने कृष्ण को लिखा की केवल आप ही बिना रक्तपात के इस समस्या का समाधान निकाल सकते हैं अन्यथा लड़ाई में रुक्मिणी के कई रिश्तेदार मारे जाते। रुक्मिणी महल के बीचों-बीच एक सुरक्षित कमरे में रहती थीं इसलिए वहां से बाहर निकलने के लिए उन्होंने अपनी कुलदेवी गिरीजा मां के मंदिर जाने का बहाना पड़ेगा।

रुक्मिणी ने पत्र में कृष्ण को लिखा कि जब वे मंदिर के लिए निकलेगी उस समय वे उन्हें ले जा सकते हैं। द्वारका में बैठे कृष्ण को जैसे ही यह पत्र मिला वह तुरंत अपने बड़े भाई बलराम के साथ विदर्भ के लिए निकल पड़े।

दूसरी तरफ़ शिशुपाल रुक्मी के विवाद प्रस्ताव की ख़बर से बहुत ख़ुश था कि वह अब कुंडीना, (वर्तमान कौंडन्यापुर) अमरावती जिले में जाकर रुक्मिणी पर दावा कर सकते हैं। जरासंध ने अधिक विश्वास ना करते हुए अपने सभी जागीरदारों और सहयोगियों को साथ भेज दिया क्योंकि उसे भनक लग गई थी कि कृष्ण निश्चित रूप से रुक्मिणी को छीनने आएंगे।

भीष्मक और रुक्मिणी को अपने गुप्तचरों से कृष्ण के आने की ख़बर मिल गई थी। भीष्मक तो पहले से ही कृष्ण को अपनी बेटी के लिए सर्वोत्तम वर के रूप में अपना चुके थे इसलिए उन्होंने भी यही कामना की कि कृष्ण रुक्मिणी को ले जाए। भीष्मक ने उनके लिए एक सुसज्जित हवेली में ठहरने की व्यवस्था भी की थी।

उन्होंने खुशी-खुशी कृष्ण का उनका स्वागत किया। दूसरी तरफ़ महल में रुक्मिणी अपनी शादी के लिए तैयार हो गई। वह निराश और अश्रुपूर्ण थी कि कृष्ण की ओर से अभी तक कोई समाचार नहीं आया था। लेकिन तभी उसकी बाईं जांघ, हाथ और आंख फड़क गई और उसने इसे शुभ शगुन मानते हुए प्रसन्नता व्यक्त की।

जल्द ही ब्राह्मण दूत ने रुक्मिणी को आकर बताया कि कृष्ण ने उनका अनुरोध स्वीकार कर लिया है। वह भगवान शिव की पत्नी, देवी अंबिका की अपनी पूजा करने के लिए मंदिर गई। जैसे ही वह बाहर निकली, उन्होंने कृष्ण को देखा। रुक्मिणी रथ में सवार हुईं और कृष्ण के साथ चली गईं।

जब शिशुपाल ने उन दोनों को साथ देखा तो जरासंध की सभी सेनाएं तेजी से उनका पीछा करने लगीं। कृष्ण के भाई बलराम ने सभी को परास्त कर दिया था लेकिन रुक्मी, कृष्ण और रुक्मिणी के रथ का पीछा करते हुए भाद्रोद तक पहुंच गया।

लोककथाओं के अनुसार

कृष्ण रुक्मिणी का अपहरण और उनसे विवाह करने के बाद माधवपुरघेड गांव पहुंचे थे। उसी घटना की याद में माधवराईजी के लिए एक मंदिर बनाया गया है। इस शादी की याद में कृष्ण और रुक्मिणी का स्वागत करते हुए हर साल माधवपुर में बड़े धूमधाम से सांस्कृतिक समारोह का आयोजन किया जाता है। द्वारका में कृष्ण और रुक्मिणी का स्वागत बड़े धूमधाम से किया गया।

एक मिथक यह भी है कि राधा और रुक्मिणी एक ही थीं। राधा देवी लक्ष्मी का अवतार है और रुक्मिणी भी देवी लक्ष्मी का अवतार है जैसा कि हिंदू धर्म के महान ग्रंथ ‘महाभारत’ में कहा गया है। रुक्मिणी को हिंदू धर्म में राधा का अवतार भी माना जाता है। रुक्मिणी के रूप में राधा ने भगवान कृष्ण से शादी की।

रुक्मिणी के जीवन के कई पहलू हैं जो राधा के जीवन से मेल खाते हैं। रुक्मिणी और राधा दोनों ही कृष्ण से बड़ी थीं। दोनों बचपन से ही कृष्ण से मंत्रमुग्ध थीं। दोनों ही कृष्ण की शक्ति थे। इसके अलावा, अगर हम रुक्मिणी और राधा की मूर्तियों पर ध्यान दें, तो वे दोनों आश्चर्यजनक रूप से समान दिखाई देती हैं। एक और दिलचस्प बात यह है कि महाभारत सहित किसी भी प्राचीन शास्त्र में “राधा” का कहीं भी उल्लेख नहीं है। यहां तक कि ‘श्रीमद्भागवत’, भगवान कृष्ण की कहानी या किसी पुराण में उनका कोई उल्लेख नहीं है।

अब प्रश्न उठता है कि यदि रुक्मिणी और राधा एक ही थीं तो एक व्यक्ति की दो पहचान और दो माता-पिता कैसे हो सकते हैं? यह प्रश्न बहुत स्पष्ट है। उत्तर राधा के जन्म में निहित है। पूतना नामक एक राक्षसी थी। कृष्ण की कहानी में हम सभी ने पूतना के बारे में सुना है। पूतना बच्चों को जहरीला दूध पिलाकर मार देती थी। पूतना ने विदर्भ से एक बालिक रुक्मिणी को छीन लिया। लेकिन जैसे ही वह उड़ रही थी रुक्मिणी अत्यधिक भारी हो गई और पूतना ने उसे कमल के फूल में छोड़ दिया।

उसके बाद वह बच्ची वृष्णु और उसकी पत्नी कृति को मिली जिन्होंने उसे अपनी बेटी माना और उसका नाम राधा रखा। लंबे समय के बाद, विष्माका को यह सच्चाई पता चली कि राधा उनकी खोई हुई बेटी है जो उनकी खोई हुई संतान रुक्मिणी थी, इसलिए वह उसे अपने साथ ले गए। राधा का अंत रहस्य है और रुक्मिणी का उल्लेख स्पष्ट है। जब राधा थी तब रुक्मिणी नहीं थी और जब रुक्मिणी थी तो राधा नहीं थी।

 

तो यह सिर्फ एक मिथक है कि राधा और कृष्ण की शादी नहीं हुई थी। श्री कृष्ण को रुक्मिणी का सच पता था इसलिए उन्होंने रुक्मिणी से अपनी प्रेमिका राधा के रूप में शादी की। हिंदू संस्कृति से ताल्लुक रखते हुए हम सभी को अपनी संस्कृति के इस छिपे हुए सच को जानना चाहिए।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.