अलगा बांध नहर बनी किसानों के लिए मुसीबत

सरगुजा जिले के  अलगा बांध से  2 बरस पहले बना नहर किसानों के लिए मुसीबत बन गया है| आधा अधूरा   नहर में कई जगह दरारें पड़ चुकी है। नहर से रिस रहा पानी बेकार खेतों में जा रहा है किसान इस रबी फसल नहीं ले पा रहे हैं |

0 18

- Advertisement -

लखनपुर । सरगुजा जिले के  अलगा बांध से  2 बरस पहले बना नहर किसानों के लिए मुसीबत बन गयी  है| आधा अधूरा   नहर में कई जगह दरारें पड़ चुकी है। नहर से रिस रहा पानी बेकार खेतों में जा रहा है किसान इस रबी फसल नहीं ले पा रहे हैं |

सरगुजा जिले के लखनपुर विकास खंड के कोसंगा , लखनपुर भरतपुर गोरता गणेशपुर के ग्रामीणों के मुताबिक सिंचाई विभाग  द्वारा अलगा बांध पर 2 वर्ष   कंक्रीट नहर का निर्माण कार्य कराया गया था।

नहर के माध्यम से दर्जनों गांव के किसानों को इसका लाभ पहुंचाना था परंतु आज यही नहर किसानों के लिए मुसीबत बन गई है। नहर में बड़ा छेद  होने से रिस रहा इसका पानी दर्जनों किसानों के खेतों में  भर रहा है  जिससे रबी फसल लगाने से किसान वंचित है।

किसानों की मानें तो सरकार नहर के माध्यम से सैकड़ों किसानों को लाभ पाना पहुंचाना चाहती है परंतु विभागीय अधिकारियों की लापरवाही के कारण यह नहर किसानों के लिए मुसीबत बन गया है।

अब भी नहर निर्माण अधूरा है  और नहर में कई जगह दरारें पड़ चुकी हैं । जानकारी के मुताबिक ग्राम कोसंगा से होकर गुजरी नहर में बड़ा छेद होने से लाखों रुपये से बना सीसी सड़क बह गया|

- Advertisement -

सीसी सड़क बह जाने से आवागमन पूरी तरह बाधित हो चुका है। इतना ही नहीं  घरों तक पानी पहुँच गया है। ग्रामीणों ने इसकी जानकारी विभाग को दी है परंतु अब तक विभाग  ने कोई कदम नहीं उठाया है |

कोसंगा के लोचन सिंह , महेश सिंह, घूर साय, अशोक, फेकू, राम प्रशाद, राजनाथ, जगेस्व्र ,जयपाल, सतपाल,राम बाई, आनंद, नार सिंह, अमृत, चितरंजन, माइको बाई, सच्चा राम , सहित अन्य किसानों आरोप लगाते हुए कहा कि सिंचाई विभाग की लापरवाही का खामियाजा हम किसानों को भुगतना पड़ रहा है ।

पूर्व में नहर में छोटा होल हुआ था जांच करने आए सिंचाई विभाग के अधिकारियों को इसकी जानकारी दी गई थी परंतु अधिकारियों के द्वारा मरम्मत के नाम पर महज खानापूर्ति की गई ।  बाद में यह छेड़  बड़ा हो गया और नहर का पानी खेतों मे जाने से धान की फसल भी खराब हो चुकी थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.