बस्तर: CRPF कैंप में HC ने ASI को गोली मारी, खुदकुशी की भी कोशिश

छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के सुकमा जिले में मुलुगु CRPF कैंप में एक HC हेड कॉन्स्टेबल  ने ASI को गोली मारने के बाद  खुद पर भी गोली चला खुदकुशी की कोशिश की | ASI की मौके पर मौत हो गई जबकि गंभीर HC (हेड कॉन्स्टेबल) का इलाज जारी है |

0 26

- Advertisement -

जगदलपुर| छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के सुकमा जिले में मुलुगु CRPF कैंप में एक HC हेड कॉन्स्टेबल  ने ASI को गोली मारने के बाद  खुद पर भी गोली चला खुदकुशी की कोशिश की | ASI की मौके पर मौत हो गई जबकि गंभीर HC (हेड कॉन्स्टेबल) का इलाज जारी है |

बस्तर के  सुकमा जिले के कोंटा इलाके से लगे मुलुगु  CRPF 39 बटालियन के एक हेड कॉन्स्टेबल ने अपनी सर्विस राइफल से कैंप में ही पोस्टेड ASI पर गोलियां दाग दी। जिससे ASI की मौके पर ही मौत हो गई। ASI को गोली मारने के बाद उसने खुद पर भी गोली चलाकर आत्महत्या का प्रयास किया है। बताया जा रहा है कि हेड कॉन्स्टेबल गंभीर रूप से घायल है। जिसे वारंगल अस्पताल ले जाया गया है।

प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक  CRPF के ASI उमेश चंद्र और हेड हेड कॉन्स्टेबल स्टीफन के बीच कुछ विवाद हुआ था। आज  रविवार की सुबह   HC हेड कॉन्स्टेबल स्टीफन ने ASI पर अपनी सर्विस राइफल से गोलियां दाग दी |

फायरिंग की आवाज सुनते ही कैंप के अन्य जवान भी तुरंत मौके पर पहुंच गए। उन्होंने देखा कि ASI की मौके पर मौत हो गई है। जबकि HC  हेड कॉन्स्टेबल गंभीर रूप से घायल होकर तड़प रहा था।

जिसे जवानों ने फौरन अस्पताल पहुंचाया। उसका telangana के वारंगल अस्पताल में इलाज चल रहा है। CRPF  मामले की जांच  कर रही है |

- Advertisement -

पढ़ें :छत्तीसगढ़ : CRPF जवान ने कैंप में साथियों पर की फायरिंग , 4 की मौत,3 जख्मी

बता दें हाल ही में सुकमा जिले के लिंगनपल्ली CRPF कैंप में भी एक जवान ने अपने 7 साथियों को गोलियों से भून दिया था। इस घटना में 4 जवानों की मौके पर ही मौत हो गई थी जबकि 3 गंभीर रूप से घायल हुए थे।   आरोपी जवान का खान  था कि साथी उसकी पत्नी को कच्ची कली बोलते थे।   इसलिए सभी को मौत की सजा दे दी।

बस्तर में 4 साथियों को गोली मारने वाले CRPF जवान ने क्या कहा …

नकस्ल प्रभावित बस्तर में इस तरह  की घटनाएँ पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती बनी हुई हैं |   नारायणपुर, बीजापुर और सुकमा स्थित सुरक्षा बलों के कैंप में इस तरह की घटनाएं हुई हैं।  इनमें  सबसे ज्यादा CRPF के 9 जवानों की मौत हुई है, जबकि ITBP के 6 और CAF को 5 जवानों का नुकसान झेलना पड़ा है।

ज्यादातर घटनाएं रात के समय ही हुई हैं। जब सभी जवान ड्यूटी खत्म होने के बाद महफिल में बैठते और एक दूसरे से मस्ती-मजाक करने लगते हैं।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.