महासमुंद: रेत का अवैध उत्खनन एवं भंडारण, जिपं अध्यक्ष उषा पटेल ने खोला मोर्चा, अधिकारियों पर संरक्षण देने का आरोप

महासमुंद जिले में रेत माफियाओं के द्वारा बेखौफ रेत का अवैध उत्खनन एवं  भंडारण की शिकायतों के बाद भी खनिज विभाग द्वारा की गई कार्यवाही शून्य होने से अब सीधे खनिज अफसरों पर उँगलियाँ उठने लगी हैं| रेत के अवैध उत्खनन एवं भंडारण के मामले पर कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री एवम जिला पंचायत अध्यक्ष उषा पटेल ने रेत माफियाओं से विभागीय अधिकारियों के संरक्षण का आरोप लगाया है।

0 110

- Advertisement -

 

पिथौरा| महासमुंद जिले में रेत माफियाओं के द्वारा बेखौफ रेत का अवैध उत्खनन एवं  भंडारण की शिकायतों के बाद भी खनिज विभाग द्वारा की गई कार्यवाही शून्य होने से अब सीधे खनिज अफसरों पर उँगलियाँ उठने लगी हैं|

रेत के अवैध उत्खनन एवं भंडारण के मामले पर कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री एवम जिला पंचायत अध्यक्ष उषा पटेल ने रेत माफियाओं से विभागीय अधिकारियों के संरक्षण का आरोप लगाया है।

कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री एवम जिला पंचायत अध्यक्ष उषा पटेल

बता दें सांकरा जोंक नदी से रेत उत्खनन व भंडारण के मामले में विगत दिनों खनिज निरीक्षक की टीम ने दबिश दी थी।  ग्रामीणों की मानें तो रेत भंडारण स्थल जहाँ रेत माफिया  उत्खनन व भंडारण नियम विरुद्ध कर रहे है वहां पर अधिकारी ने कुछ कार्यवाही की थी। परन्तु इसके बाद अधिकारी श्री चंद्राकर ने मोबाइल रिसीव करना बन्द कर दिया।

उधर जिला खनिज अधिकारी के अनुसार अभी ऐसी कोई कार्यवाही नहीं की गई है। शिकायत मिलने के बाद टीम बना कर कार्यवाही की जाती है।

वहीँ कोई कार्यवाही नहीं होने पर सत्ता पक्ष की जिला पंचायत अध्यक्ष अपने ही अधिकारियों पर मिली भगत का आरोप लगा रही हैं|

- Advertisement -

महासमुंद जिले में 11 रेत घाट स्वीकृत है और 18 लोगों को 10.61 हेक्टेयर में  81000 टन रेत भंडारण की अनुमति है। वर्तमान में जिले के सभी रेत घाट बरसात के कारण 15 अक्टूबर तक बंद है। उसके बावजूद रेत माफिया धडल्ले से रेत का उत्खनन एवं भंडारण कर रहे हैं ।

जहाँ भंडारण की अनुमति लिये है उससे ज्यादा रेत का भंडारण अन्य जगहों  पर करके रेत का पहाड़ खड़ा कर दिये हैं। जिससे शासन को लाखों का नुकसान हो रहा है।

शासकीय रिकार्ड के अनुसार सांकरा मे दिव्या उप्पल को खसरा नं 341,342 के 0.90 हेक्टयर मे 5000 टन रेत भण्डारण की अनुमति है ,पर इसके अलावा कई रेत माफिया और जगहों पर भंडारण अवैध रुप से कर रखे हैं।

जिला पंचायत अध्यक्ष उषा पटेल कई बार खनिज अधिकारी से कर चुकी है ,पर कार्यवाही अभी तक नहीं हुई। जिला पंचायत अध्यक्ष से मीडिया ने जब सवाल किया तो उनका कहना है कि इतने बड़े पैमाने पर रेत का उत्खनन व भंडारण बिना आला अधिकारियों के मिली भगत के संभव नहीं है ।

इस मामले में खनिज अधिकारी आरोपों पर कुछ भी कहने से इंकार करते  समय – समय पर कार्यवाही किये जाने का हवाला दे रहे हैं।

इस संबंध में जिला खनिज अधिकारी एच डी भारद्वाज ने मीडिया को बताया कि रेत खदानें बरसात के कारण 15 अकटुबर तक बन्द कर दी गयी है।उत्खनन पूरी तरह बन्द है। शिकायत मिलने पर वे उड़नदस्ता टीम गठित कर कार्यवाही करेंगे। कार्यवाही में नियमानुसार अर्थदंड किया जाएगा।

desh digital के लिए पिथौरा से रजिंदर खनूजा की रिपोर्ट 

Leave A Reply

Your email address will not be published.