महंगाई से नहीं मिलेगी राहत क्योंकि

0 2

नई दिल्ली| देश में रबी सीजन का रिकॉर्ड उत्पादन होने का अनुमान और फसलों की आवक के बाद भी महंगाई बनी रहेगी| खाने-पीने की चीजें सस्ती होने की उम्मीद नहीं है|  दरसल तेल के दाम में आई तेजी से महंगाई बढ़ती जा रही है

मीडिया रिपोर्ट के मुतबिक वैश्विक बाजार में अनाज और तेल-तिलहन समेत अन्य एग्री कमोडिटी की मांग बढ़ने से इनके दाम में जोरदार तेजी आई है। कच्चे तेल के दाम में जोरदार इजाफा होने से एग्री कमोडिटी की कीमतों की तेजी को सहारा मिल रहा है।

जानकार बताते हैं कि डीजल के दाम में वृद्धि से मालभाड़ा में बढ़ोतरी होने से खाने-पीने की चीजों के दाम में इजाफा हुआ है।

दलहन- तिलहन समेत अन्य रबी फसलों की आवक शुरू हो चुकी है और अगले महीने तक रबी फसलों की आवक जोर पकड़ लेगी। लेकिन जानकार बताते हैं कि रबी फसलों की आवक बढ़ने पर भी खाने के तेल और दाल के दाम में नरमी की उम्मीद कम है। हालांकि प्याज के दाम में काफी गिरावट आ चुकी है और आलू  काफी सस्ता हो गया है। लेकिन अन्य हरी शाक-सब्जियों की आवक कम होने से फिलहाल इनके दाम में तेजी बनी रह सकती है।

तेल-तिलहन बाजार विशेषज्ञ बताते हैं कि अप्रैल से पहले खाद्य तेल में नरमी के आसार कम हैं। वहीं, अनाजों व अन्य खाद्य वस्तुओं की परिवहन लागत बढ़ने से उनके दाम में इजाफा हो गया है। डीजल के दाम में बढ़ोतरी के बाद इनके परिवहन लागत में 10 से 12 फीसदी का इजाफा हुआ है।

इधर संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) की हालिया रिपोर्ट के अनुसार, दुनियाभर में खाद्य वस्तुओं के दाम में फरवरी में लगातार नौवें महीने बढ़ोतरी दर्ज की गई है। एफएओ खाद्य मूल्य सूचकांक में फरवरी के दौरान पिछले महीने के मुकाबले 2.4 फीसदी जबकि पिछले साल के मुकाबले 26.5 फीसदी की बढोतरी हुई है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.