तमिलनाडु पंचायत चुनाव में बीजेपी के एक उम्मीदवार को केवल एक वोट

तमिलनाडु में विगत 9 अक्टूबर को हुए पंचायत चुनाव में बीजेपी के एक उम्मीदवार को केवल एक वोट मिला | घर में पत्नी समेत 5 सदस्यों का वोट भी उसे नहीं मिला | इस नतीजे के साथ ही उक्त उम्मीदवार  पर  सोशल मीडिया मुखर हो गया |

0 13

कोयंबटूर| तमिलनाडु में विगत 9 अक्टूबर को हुए पंचायत चुनाव में बीजेपी के एक उम्मीदवार को केवल एक वोट मिला | घर में पत्नी समेत 5 सदस्यों का वोट भी उसे नहीं मिला | इस नतीजे के साथ ही उक्त उम्मीदवार  पर  सोशल मीडिया मुखर हो गया | हैशटैग #SingleVoteBJP ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा | जोक्स की लहर दौड़ गई| वैसे  भाजपा प्रत्याशी के अलावा इस सीट के एक और प्रत्याशी  को भी सिर्फ 2 ही वोट मिल सके हैं। यहाँ  कुल 913 वोट पड़े जिसमें से 3 वोट रद्द हुए हैं।

मिडिया रिपोर्टों के मुताबिक   कोयंबटूर में बीजेपी युवा विंग के नेता डी कार्तिक ने पेरियानाइकनपालयम यूनियन कुरुदमपलयम पंचायत वार्ड नंबर 9 के लिए हुए चुनाव में पार्षद के पद के लिए चुनाव लड़ा था।  जिसमें उन्हें केवल एक वोट ही मिला।

- Advertisement -

मिडिया रिपोर्टों के अनुसार, कार्तिक का हारना और भी शर्मनाक था क्योंकि उनके परिवार में कुल 5 सदस्य थे, जिनमें से चार ने उन्हें वोट नहीं दिया था। हालांकि, मीडिया पर प्रतिक्रिया देते हुए कार्तिक ने कहा कि उनके परिवार का वोट वार्ड नंबर 4 में था और इसलिए वे उन्हें वोट नहीं दे सके. स्थानीय निकाय चुनावों में उम्मीदवार राजनीतिक दल के प्रतीकों के तहत चुनाव नहीं लड़ते हैं, हालांकि पार्टियां आधिकारिक तौर पर उनका समर्थन करती हैं।

बीजेपी की नीतियों की जानी-मानी आलोचक कवयित्री-कार्यकर्ता मीना कंडासामी ने चुनाव परिणाम के स्क्रीनशॉट के साथ ट्विटर पर लिखा, “स्थानीय निकाय चुनावों में भाजपा उम्मीदवार को केवल एक वोट मिलता है। अपने परिवार के चार अन्य मतदाताओं पर गर्व है जिन्होंने दूसरों को वोट देने का फैसला किया।”

मिडिया रिपोर्टों जिस सीट पर यह चुनाव हो रहा था वहां पर कुल 913 वोट पड़े हैं और चुनाव जीतने वाले प्रत्याशी को 387 वोट प्राप्त हुए हैं, जबकि दूसरे नंबर पर रहे प्रत्याशी को 240, तीसरे नंबर पर रहे प्रत्याशी को 196 और चौथे नंबर पर रहे प्रत्याशी को 84 वोट प्राप्त हुए हैं। कुल 6 प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ा था, 3 वोट रद्द भी हुए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.