शीतलकुची के मुद्दे पर बंगाल में सियासी बवाल, BJP के सभी 77 विधायकों को केंद्रीय सुरक्षा देने के निर्देश

पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हो रही राजनीतिक हिंसा के बीच केंद्र सरकार ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 61 विधायकों को CISF की X कैटिगरी की सुरक्षा प्रदान की है।

0 3

कोलकाता| पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हो रही राजनीतिक हिंसा के बीच केंद्र सरकार ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 61 विधायकों को CISF की X कैटिगरी की सुरक्षा प्रदान की है। चुनाव के दौरान भी कई बीजेपी नेताओं को वीआईपी सिक्यॉरिटी हासिल थी। इस मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि केंद्र सरकार ने यह फैसला बीजेपी के नेताओं और कार्यकर्ताओं पर हो रहे हमलों को देखते हुए लिया है। इसके साथ ही 294 विधानसभा सीटों वाली बंगाल विधानसभा में जीतकर पहुंचे बीजेपी के सभी 77 विधायकों की सुरक्षा केंद्रीय सुरक्षाबलों के हवाले हो गई है।

नए आदेश में बीजेपी के 61 विधायकों को यह X श्रेणी की सुरक्षा दी गई है, जबकि सोमवार को ही विपक्ष के नेता चुने गए शुभेंदु अधिकारी को पहले से ही Z कैटिगरी सुरक्षा प्राप्त है। चार अन्य बीजेपी नेताओं को Y श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है। ऊपर जिन अधिकारी का हवाला दिया गया है उन्होंने बताया कि गृह मंत्रालय ने उन 61 विधायकों के लिए सुरक्षा को मंजूरी दी है, जिन्हें अभी तक कोई सुरक्षा हासिल नहीं थी। इंटेलिजेंस एजेंसियों और पिछले दिनों राज्य में चुनाव बाद हुई हिंसा का जायजा लेने पहुंची 4 सदस्यीय टीम से मिले इनपुट के बाद यह फैसला लिया गया है।

बीजेपी ने दावा किया है कि मतगणना के बाद से उसके 14 कार्यकर्ताओं की टीएमसी के गुंडों ने हत्या कर दी है तो सैकड़ों भागने पर मजबूर हो गए हैं, क्योंकि उनके दफ्तरों और परिवार के सदस्यों पर हमले हो रहे हैं। X कैटिगरी की सुरक्षा के तहत 3-5 हथियार बंद कमांडो प्रत्येक विधायक की सुरक्षा करेंगे, वे राज्य में जहां भी जाएंगे, सुरक्षाकर्मी उनके साथ रहेंगे। अन्य को पहले से ही Y कैटिगरी की सुरक्षा हासिल है, जिसमें 10-12 सुरक्षाकर्मी होते हैं।

बीजेपी नेता कैलाश विजवर्गीय ने कहा, ”हमने गृहमंत्री से हमारे 77 विधायकों को सुरक्षा प्रदान करने की अपील की थी, क्योंकि वे अपने क्षेत्र सहित कहीं भी यात्रा नहीं कर पा रहे थे। यदि हिंसा कम होती है तो वे दोबारा सोच सकते हैं, लेकिन इस समय तो इसकी जरूरत है।”

टीएमसी नेता काकोली घोष दासतिदार से जब इस पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, ”नरेंद्र (मोदी) और अमित (शाह) झूठा कैंपेन चलाते हैं, इनके आपके सवालों का जवाब देना चाहिए।” हालांकि, एक अन्य टीएमसी नेता ने पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर कहा, ”बीजेपी के सभी विधायकों को सुरक्षा देने की असली वजह यह है कि उनमें से आधे अब पार्टी छोड़कर भाग जाएंगे। बीजेपी को लगता है कि शुभेंदु अधिकारी को विपक्ष का नेता बनाए जाने से विधायक नाखुश हैं।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.