देवपुर के जंगल में आग, वन अमला नदारत

वन रक्षक से डीएफओ तक कोई अफसर मुख्यालय में नहीं थे

0 1

महासमुंद | जिले के बार नवापारा अभ्यारण्य से लगे वन परिक्षेत्र देवपुर मुख्यालय से मात्र 5 किलोमीटर दूर  जंगलों में भयंकर आग लग गई हुई है। हैरत है कि इस भीषण अग्निकांड को रोकने क्षेत्र में वन रक्षक से डीएफओ तक कोई अफसर मुख्यालय में नहीं थे ।  वन अफसरों के मोबाइल लगा कर उन्हें घटना की जानकारी देने के प्रयास किये गए परन्तु सभी ने अपने मोबाइल बन्द रखे है।

मिली जानकारी के अनुसार बार नवापारा अभ्यारण्य से लगे  देवपुर मुख्यालय से मात्र 5 किलोमीटर के अंदर स्थित जंगल में विगत 24 घंटे से भयंकर आग लगी हुई है।

आसपास के ग्रामीणों द्वारा इसकी सूचना परिक्षेत्र अधिकारी पंचराम यादव डिप्टी रेंजर वन रक्षकों को देनी चाही परन्तु किसी का भी नंबर से संपर्क नहीं हो पाया।

ग्रामीणों के अनुसार जब निचले स्तर के अधिकारियों को आग लगने की सूचना पर संपर्क नहीं हो पाया तब ग्रामीणों ने वन मंडल अधिकारी केआर बड़ाई से दूरभाष पर चर्चा करना चाहा।श्री बढई के मोबाइल न 9425586652 नम्बर पर घण्टी भी गयी परन्तु उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

ज्ञात हो कि देवपुर परिक्षेत्र में विगत वर्ष वर्तमान प्रभारी डिप्टी रेंजर को पदस्थ करने के लिए यह पदस्थ रह कर अवैध शिकार एवम कटाई जैसी गतिविधियों पर नकेल कसने वाले पूर्णकालिक रेंजर कृशानु चंद्राकर को हटाकर डिप्टी रेंजर को प्रभार दे दिया गया था। किन्तु तब से ही लगातार शिकार की गतिविधियों में बाढ़ सी आ गई है।

वर्तमान अग्निकांड भी शिकारियों एवम तेंदूपत्ता ठेकेदारों द्वारा किये जाने की आशंका ग्रामीण जता रहे है।

ग्रामीणों  की मानें तो देबपुर वन परिक्षेत्र में डिप्टी रेंजर के प्रभार में आते ही अपराधियों में हौसले बुलंद हैं इन लोगों द्वारा कभी भी वनों की सुरक्षा को प्राथमिकता नहीं दी जाती।इनके कार्यकाल में शिकार की घटनाएं भी बेतहासा बढ़ी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.