महासमुंद :हाथियों के हमले से 23 वीं मौत

| chhattisgarh के महासमुंद जिले में सोमवार को फिर से एक हाथी के हमले से एक वृद्ध ग्रामीण की मौत हो गयी।यह जिले में हाथियों के हमले से 23 वी मौत थी।दूसरी ओर वन विभाग ने 25 हजार रुपये की तात्कालिक सहायता मृतक के परिजनों को दे कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली है।

0 55

- Advertisement -

महासमुंद | chhattisgarh के महासमुंद जिले में सोमवार को फिर से एक हाथी के हमले से एक वृद्ध ग्रामीण की मौत हो गयी।यह जिले में हाथियों के हमले से 23 वी मौत थी।दूसरी ओर वन विभाग ने 25 हजार रुपये की तात्कालिक सहायता मृतक के परिजनों को दे कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली है।
मिली जानकारी के अनुसार विगत पखवाड़े भर से महासमुंद जिले में तीन हाथी लगातार भटक रहे है।वह विभाग इन हाथियों से ग्रामीणों को बचाने के लिए मात्र मुनादी ही करवाता दिख रहा है।अभी का ताजा मामला जिले के बागबाहरा परिक्षेत्र के आमकोनी जंगल का बताया जा रहा है।यहां के बोडराबांधा बीट के अंतर्गत ग्राम कुरुभाटा जंगल में टंगिया लेकर गए एक वृद्ध को दंतैल हाथी ने कुचल कुचल कर मार डाला।।इस घटना के बाद से गांव में भारी दहशत का माहौल है।

वन विभाग के अधिकारियों की माने तो ये हाथी अपने झुंड से अलग होकर छुरा रेंज से भटकता हुआ आया है। वन विभाग ने यह भी कहा है कि वे दंतैल पर नज़र रखे हुए है और उसे खदेड़ने का प्रयास किया जा रहा है। इसके अलावा ग्रामीणों की बैठक लेकर ग्रामीणों को जंगल मे न जाने की हिदायत दी जा रही है।

ग्रामीणों के अनुसार बिंदु उर्फ दीनदयाल साहू (72) पिता साधुराम साहू समीपस्थ ग्राम बिजेपाल गया हुआ था,तभी कुरुभाठा नदी खार राम कछार के पास एक हाथी ने कुचल दिया।हाथी के कुचलने पटकने  से बुजर्ग का एक हाथ और पैर धड़ से अलग हो गया।

- Advertisement -

बता दें  कि हाथियों के हमले से अब तक 23 लोगो की मौत हो चुकी है।

अब तक  वन विभाग मात्र हाथियों को खदेड़ने की ही नीति पर काम कर रहा है।वन  विभाग मात्र मुआवजा देकर ही अपने कर्तव्य पूरे कर रहा है। 

इधर chhattisgarh शासन ने हाथियों के चारे के रूप में धान परोसने की योजना बनाई है जिसकी जमकर आलोचना हो रही है |

Leave A Reply

Your email address will not be published.