महासमुंद: सांकरा थाना प्रभारी पर कई गंभीर आरोप, एस पी से शिकायत  

छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले के सांकरा थाना प्रभारी सूर्यकान्त भारद्वाज पर जबरन घर से उठा ले जाने,  पिटाई करने, मनमर्जी बयान बनाकर मजबूर कर हस्ताक्षर लेने और झूठे मामले में फंसा देने की धमकी देने का आरोप लगा है | पीड़ित ने इसकी शिकायत एसपी महासमुंद से की है |

0 671

- Advertisement -

रायपुर | छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले के सांकरा थाना प्रभारी सूर्यकान्त भारद्वाज पर जबरन घर से उठा ले जाने,  पिटाई करने, मनमर्जी बयान बनाकर मजबूर कर हस्ताक्षर लेने और झूठे मामले में फंसा देने की धमकी देने का आरोप लगा है | पीड़ित ने इसकी शिकायत एसपी महासमुंद से की है |

बता दें , पीड़ित लोहरिन डोगरी निवासी दुर्योधन भोई ने सांकरा थाना प्रभारी सूर्यकान्त भारद्वाज के खिलाफ 7 अगस्त 2021 को पुलिस महानिदेशक से शिकायत की थी | जिसमें पीड़ित ने लिखा , आवेदक के साथ दिनांक 07.08.2021 को  थाना प्रभारी के द्वारा थाना में बुलाकर उसके साथ गंदी-गंदी गाली गलौच किया गया एवं जबरन मोबाईल को छिनकर (सैमसंग) तोड़कर फेक दिया एवं आवेदक को एन.डी. पी. एस. मामले में गवाह के रूप में कई बार थाना बुलाकर जबरन गवाह बनने हेतु बाध्य किया गया है |

कई एन.डी.पी.एस. मामलों में गवाह नहीं बनने पर आवेदक के नाम से अन्य व्यक्ति द्वारा हस्ताक्षर करवाकर जबरन का गवाह बनाया जाता रहा।

आवेदक ने जब इसके बारे में  थाना प्रभारी को कहा तब उसके साथ अभद्र गाली-गलौच किया एवं धमकी दी कि तुझे किसी बड़े मामले में फैसा दूंगा यह कहकर थाना से निकाल दिया|
अतः महोदय से निवेदन है कि आवेदक के आवेदन को गंभीरता से लेते हुए अनावेदक थाना प्रभारी के विरुध्द उचित कार्यवाही एवं स्थानांतरण करने आदेश की कृपा करें।

पीड़ित दुर्योधन भोई ने deshdigital को बताया कि अवैध शराब के एक मामले में थाना प्रभारी सांकरा सूर्यकान्त भारद्वाज ने 30 हजार रूपये आरोपी से लिए थे और मामला रफा दफा किया था | इसके बाद भी वह उक्त आरोपी को फिर से बुलाया और रकम मांगे | इस पर मैंने फ़ोन पर पैसे लेकर फिर से क्यों बुलाने की बात कही थी |  थाना प्रभारी को शक था कि इस लेनदेन की काल रिकार्डिंग मेरे फ़ोन पर है | इसी कारण थाना ले आकर मेरी पिटाई की गई और मोबाईल तोडा गया | बाद में मुझे उन्होंने एक पुराना मोबाईल दिया है जिसकी जानकारी sdo (p) पिथौरा को भी अपने बयान दर्ज कराते वक्त दी है | मुझे डर है कि कहीं अन्य झूठे मामलों में फंसा न दिया जाये लिहाजा वह पुलिस महानिदेशक से भी गुहार लगायेगा |

- Advertisement -

इस पर sdo(p)अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस ) सरायपाली ने  जाँच बाबत पीड़ित को इस सम्बन्ध में 18 सितम्बर को अपने कार्यालय में पेश होने का नोटिस जारी किया | उसने वहां भी बयान दर्ज कराया है |

वहीँ जाँचकर्ता अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) पिथौरा ने 18 सितम्बर को नोटिस जारी कर 21 सितम्बर को अपने कार्यालय में पेश होने का नोटिस जारी किया| पीड़ित दुर्योधन भोई  ने 21 सितम्बर को sdop पिथौरा के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया और पूरी जानकारी दी|

पीड़ित दुर्योधन भोई के मुताबिक इस शिकायत से नाराज  थाना प्रभारी सांकरा  सूर्यकान्त भारद्वाज ने 27 सितम्बर की रात उसे उसके घर से उठाकर थाने ले आये और अपने खिलाफ की गई शिकायत को झूठा बताकर अपनी मनमर्जी से दस्तावेज बना दबाव बनाकर, झूठे मामले में फंसा देने की धमकी देकर हस्ताक्षर करवा लिए | जिसकी शिकायत उसने (पीड़ित )एस पी महासमुंद से 28 सितम्बर को की है|

पीड़ित दुर्योधन भोई ने एस पी महासमुंद से मामले पर गंभीरता से कार्रवाई करने और सुरक्षा प्रदान करने की अपील की है |

 

आरोप बदले की भावना से  – सूर्यकान्त भारद्वाज

इस सम्बन्ध में थाना प्रभारी सूर्यकान्त भारद्वाज ने deshdigital को बताया कि शिकायत कर्ता दुर्योधन भोई के खिलाफ प्रतिबंधात्मक एक्ट के अलावा पूर्व में कई  मामले दर्ज हैं| वह शराब की अवैध बिक्री करवाता है | उसके आरोप झूठे हैं, वह बदले की भावना से यह आरोप लगा रहा है| उसकी मानसिक स्थिति भी ठीक नहीं है|  वह आसपास का माहौल भी खराब करता रहता है |

Leave A Reply

Your email address will not be published.