फोन में ऐसा पासकोड बनाए, जो सिर्फ आपको ही पता हो

अब स्मार्टफोन इतना ज्यादा उपयोगी हो गया है कि उसमें मौजूद डाटा की सेफ्टी भी बहुत ज्यादा जरूरी हो गई है। आपके भी मन में सवाल आता होगा कि कैसे स्मार्टफोन को सेफ और सिक्योर रखा जाए।

0 50

- Advertisement -

नई दिल्ली । अब स्मार्टफोन इतना ज्यादा उपयोगी हो गया है कि उसमें मौजूद डाटा की सेफ्टी भी बहुत ज्यादा जरूरी हो गई है। आपके भी मन में सवाल आता होगा कि कैसे स्मार्टफोन को सेफ और सिक्योर रखा जाए।

स्मार्टफोन की सेफ्टी के लिए आपको इन टिप्स को फॉलो करना चाहिए, जिससे आपकी प्राइवेसी भी बरकरार रहेगी और फोन की सेफ्टी भी होगी।

अगर आप इस शुरुआती सिक्योरिटी स्टेप को फॉलो करते हैं तो जो भी आपका फोन इस्तेमाल करेगा तो वह उसमें कुछ भी काम नहीं कर पाएगा।

एक ऐसा पासकोड बनाए, जो सिर्फ आपको ही पता होना चाहिए। फिर फोन को इस्तेमाल करने से पहले बस आपको इसे टैप करना है। इसके अलावा आप स्मार्टफोन में टच आईडी भी बना सकते हैं जो कि फिंगरप्रिंट से सेट होती है और वहीं, आप फेस आईडी भी सेट कर सकते हैं, जिससे फोन अनलॉक हो सकता है।

लेकिन इन दोनों ही फीचर्स को आपका फोन सपोर्ट करना चाहिए।

अगर आपको ईमेल या एसएमएस के जरिए कोई संदिग्ध लिंक प्राप्त हुआ है तो उस पर क्लिक करने से बचें। अगर आप सेंडर को नहीं जानते हैं तो उस लिंक पर क्लिक नहीं करना चाहिए।

अगर आप सेंडर को जानते भी हैं तो यह कंफर्म करें कि क्या वास्तव में यह लिंक उसी ने भेजा है। फेक ईमेल, टेक्स्ट और मैसेज अकाउंट ऐसे नजर आते हैं जैसे कि आपका कोई जानकार ही हो। यह साइबर क्रिमिनल की चाल हो सकती है जो कि आपको नुकसान पहुंचा सकती है।

- Advertisement -

जब भी आपके फोन पर कोई अपडेट मिलता है तो उसे तुरंत डाउनलोड और इंस्टॉल करना चाहिए। ऐसे अपडेट्स में अक्सर सिक्योरिटी बदलाव, वल्नेरेबिलिटी पैच और अन्य जरूरी चीजें हो सकती हैं।

अगर आपने ऑनलाइन अलग-अलग अकाउंट्स बनाए हुए है तो सभी के लिए अलग-अलग पासवर्ड इस्तेमाल करना चाहिए। अगर किसी साइबर फ्रॉड को आपका यूजर पासवर्ड मिल जाता है तो वह उसका इस्तेमाल सभी अकाउंट्स पर कर सकता है।

इसलिए ऐसा करके उनके काम को आसान न बनाएं। यूनिक और हार्ड-टू-क्रैक पासवर्ड बनाने के लिए पासवर्ड मैनेजर का इस्तेमाल करना सही है।

अगर हम बाहर होते हैं और वहां पर मोबाइल डाटा काम नहीं करता है तो ऐसे में ओपन वाई-फाई का इस्तेमाल करना जरूरी हो जाता है।

जैसे कि आप किसी कॉफी शॉप में हैं और उसके अनप्रोटेक्टेड वाई-फाई नेटवर्क का इस्तेमाल करते हैं और उससे बैंकिंग ट्रांजेक्शन करते हैं तो यह खतरे से खाली साबित नहीं हो सकता है।

इसलिए अगर आप ऐसे किसी ओपन वाई-फाई का इस्तेमाल करते हैं तो अपने फोन के लिए एक वीपीएन ऐप रखें। यह आपको एनेनियस ऑनलाइन रखता है, जिससे आप प्राइवेट साइबर क्रिमनल से छिपकर ओपन वाई-फाई इस्तेमाल कर सकते हैं।

पासवर्ड मैनेजर आपके द्वारा बनाए मजबूत पासवर्ड को भी याद रखता है। अगर आपने कोई मजबूत पासवर्ड बनाया है तो आप उसे याद रखने के लिए किसी अन्य जगह नोट करके रख सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.