बिहार में शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाणपत्र की मान्यता आजीवन रहेगी

0 0

पटना | बिहार में केंद्र की तर्ज पर  शिक्षक पात्रता परीक्षा (एसटीईटी) प्रमाणपत्र की मान्यता आजीवन रहेगी। बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने विधानसभा में यह जानकारी दी|

शिक्षा मंत्री ने सदन में यह भी कहा  कि कक्षा 1 से 8 तक की शिक्षक नियुक्ति से जुड़ी टीईटी प्रमाणपत्र की वैधता 7 साल से बढ़ाकर आजीवन करने का फैसला लिया गया है।
एक प्रश्न के जवाब में शिक्षा मंत्री ने कहा कि उच्च माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षक पद के नियुक्ति के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करना जरूरी है।

एसटीईटी पात्रता पत्र की वैधता सात वर्ष के लिए था। एसटीईटी-2012 पास अभ्यर्थियों की पात्रता परीक्षा की वैधता जून 2019 में समाप्त हो गई थी, जिसे दो वर्षो के लिए विस्तारित किया गया है। इस घोषणा के बाद शिक्षक पात्रता परीक्षा पास करने वालों को राहत मिली है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.