बागबाहरा: अफसर की लापरवाही, महिला रसोइयों को 10 माह से मानदेय नहीं  

महासमुन्द जिले के बागबाहरा विकास खण्ड के रसोइए अफसर की लापरवाही की सजा विगत 10 माह से भुगत रहे हैं ।  इन अल्प पारिश्रमिक पाने वाले रसोइयो को भी 10  माह से मानदेय नहीं मिला है,

0 58

- Advertisement -

पिथौरा | महासमुन्द जिले के बागबाहरा विकास खण्ड के रसोइए अफसर की लापरवाही की सजा विगत 10 माह से भुगत रहे हैं ।  इन अल्प पारिश्रमिक पाने वाले रसोइयो को भी 10  माह से मानदेय नहीं मिला है, जिससे इनके सामने परिवार चलाने का संकट खड़ा हो गया है। परेशान रसोइए मानदेय की मांग उच्चाधिकारियों से भी कर चुकी हैं, लेकिन अभी तक उन्हें मानदेय नहीं मिल सका है।

बागबाहरा ब्लाक क्षेत्र के सैकड़ों प्राथमिक विद्यालयों में  रसोइयों की तैनाती है। यह रसोइये बच्चों को मध्याह्न भोजन पकाकर खिलाती है,लेकिन दस माह से इन लोगों को मानदेय नहीं मिला है। मानदेय न मिलने से रसोइयों के सामने समस्याएं खड़ी हो गई हैं।

मानदेय के लिए रसोइया संबंधित विद्यालय के प्रधानाध्यापक से लेकर खंड शिक्षा अधिकारी व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों से भी गुहार लगा चुकी हैं। रसोइयों का कहना है कि वैसे भी उन लोगों को सिर्फ 1200 रुपये ही महीने में मिलते हैं। समय से पारिश्रमिक न मिलने से घर चलाने में दिक्कत हो रही है।

रसोइयों के अनुसार उन्हें फरवरी माह से अब तक दस महीने का लंबा वक्त गुजर जाने के बाद भी मानदेय राशि जारी होने के बाद भी नहीं दी गई जिससे उनके समक्ष भारी आर्थिक समस्या खड़ी हो गयी है।

जानकारी के अनुसार 10 मई 2021 को राज्य शासन से रसोइया मानदेय और समाग्री भुगतान के लिए राज्य शासन से विकास खण्ड शिक्षा कार्यालय को एक करोड़ तेइस लाख उनचालीस हजार पांच सौ बियालीस रुपये प्राप्त होने के बाद भी मानदेय और समाग्री का भुगतान करने की बजाए अफसरों ने उक्त राशि वापस भेज दी। राशि आबंटन आने के छह माह बाद सम्बंधित रसोइयों को राशि आबंटन की बजाय वापस क्यों भेजी गई इस प्रश्न का जवाब भी अफसर नहीं  दे पा रहे ?

- Advertisement -

 शासन के आदेश से राशि की वापसीबीईओ

रसोइयों के मानदेय भुगतान संबंध में विकास खण्ड शिक्षाधिकारी, बागबाहरा कौशल कुमार वर्मा  ने बताया कि रसोइयों का भुगतान राज्य शासन व्दारा सीधे उनके खाते में जमा कराने हेतु शासन को राशि वापस भेजने के निर्देश के बाद उन्होंने भी शासन से रसोइयों के मानदेय हेतु मिली राशि वापस भेज दी।

इसके बाद जब  अधिकारी से पूछा गया कि आपके पास शासन ने मई महीने में 1.23.39.542 करोड रु रसोइयों और कूकिंग कास्ट भुगतान करने राशि भेजी गई है उस राशि से आप भुगतान क्यों नहीं किया। उक्त राशि को भुगतान करने की बजाय खाते में ही क्यों पड़े रहने दिया?  इस पर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया और अपना मोबाइल संबंधित शाखा के बाबू प्रवीण कुमार यादव को थमा दिया| जिस पर बाबू ने कहा राज्य शासन के व्दारा 6-9-21 को पत्र प्राप्त हुआ उसमें सभी राशि वापस करने निर्देश आया था लिहाजा हमने 14-9-2021 को पूरी राशि  वापस भेज दिया है|

पढ़ें पूरा आदेश :DocScanner 9 Nov 2021 4.38 pm

रसोइयों का कहना है कि जब ऑनलाइन ही भुगतान करना था तब भुगतान किए जाने वाली राशि बागबाहरा बीईओ के खाते में ट्रांसफर क्यों की गई। जब राशि आ गयी तब ऐसा कौन सा कारण था कि बीई ओ द्वारा उक्त राशि का वितरण ही नहीं किया गया। अब रसोइये  मांग कर रहे हैं  उन्हें जबरन परेशान कर उनकी दीवाली खराब करने वाले अफसरों पर कठोर कार्रवाई की जाय।

deshdigital के लिए पिथौरा से रजिंदर खनूजा

Leave A Reply

Your email address will not be published.