video : तुमगांव में हाथी ने बुजुर्ग को पटक मार डाला , महासमुंद जिले में 30 वीं मौत

छत्तीसगढ़ के  महासमुंद जिले के तुमगांव में आज सुबह हाथी ने एक बुजुर्ग को पटक कर मार डाला | इस मौत को मिलाकर जिले में अब तक 30 ग्रामीणों की मौत हो चुकी है।

0 77

पिथौरा| छत्तीसगढ़ के  महासमुंद जिले के तुमगांव में आज सुबह हाथी ने एक बुजुर्ग को पटक कर मार डाला | इस मौत को मिलाकर महासमुंद जिले में अब तक 30 ग्रामीणों की मौत हो चुकी है।बहरहाल वन विभाग ने मृतक परिवार को नियमानुसार 25 हजार रुपये की सहायता राशि प्रदान कर शव पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार तुमगांव नगर पंचायत क्षेत्र के अंतर्गत वार्ड क्र 6 एवम 7 के बीच रविवार की अलसुबह कोई 4 से 5 बजे के बीच एक चौराहे पर तुमगांव के चार वृद्धजन आपस मे बाते कर रहे थे।इस समय पूरी तरह रोशनी नही थी कुछ अंधेरा ही था।तभी अचानक एक हाथी इस वृद्धजनों के सामने आ धमका।

अचानक सामने आए हाथी को देख कर तीन वृद्धों ने जैसे तैसे भाग कर जान बचा ली परन्तु 65 बरस का रहिपाल पटेल हाथी के चंगुल में फंस गया।प्रत्यक्षदर्शी बताते है कि हाथी ने रहिपाल को सूंड से उठा कर ऐसा पटका कि उसकी वहीँ मौत हो गई ।

ग्रामीणों ने वन विभाग को घटना की सूचना दी।सूचना के बाद भी विलम्ब से पहुची वन विभाग की टीम ने आते ही ग्रामीणों को हाथी से सावधान रहने की हिदायत देते हुए शव को पंचनामा के बाद पोस्टमॉर्टम हेतु तुमगांव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेज दिया।

मुख्य सड़क से गुजर रहे हाथी का लोगों ने video बनाकर सोशल मिडिया पर पोस्ट कर दिया | देखें हाथी किस तरह उग्र दिखाई दे रहा है – देखें video

- Advertisement -

 

 25 हजार की तात्कालिक सहायता
इधर महासमुन्द वन विभाग के एस डी ओ एस एस नाविक ने बताया कि मृतक परिवार को 25 हजार की तात्कालिक सहायता प्रदान की गई है।शेष राशि 5,75 लाख रुपये मुआवजा के रूप में जांच के बाद मृतक परिवार के खाते में ट्रांसफर की जाएगी।

हाथियों  से निपटने का समाधान नहीं
महासमुन्द जिले में हाथियों  के विचरण के बाद भी वन विभाग द्वारा उनके रहवास आदि की कोई सार्थक पहल नही किये जाने के कारण गुस्से में हाथियों  के हमले लगातार जारी है।ग्रामीणों ने मांग की है कि हाथी को इधर से उधर खदेड़ने की योजना के बदले इनके स्थायी समाधान के बारे में शासन प्रशासन को कोई ठोस योजना बनाना आवश्यक है।

जिला मुख्यालय में भी डिप्टी रेंजर ही प्रभारी
प्रदेश  में हाथियों से सबसे अधिक प्रभावित महासमुन्द जिला मुख्यालय में पूर्ण रेंजर की पदस्थापना की  जरुरत महसूस की जा रही है| अभी वर्तमान में भी एक डिप्टी रेंजर को ही रेंजर का प्रभार दिया गया है। ज्ञात हो कि इसके पूर्व भी एक डिप्टी रेंजर को ही जिला मुख्यालय के रेंजर का प्रभार दिया गया था।जिस पर अनेक आरोप के चलते उन्हें निलंबित किया जा चुका है।

deshdigital के लिए रजिंदर खनूजा

Leave A Reply

Your email address will not be published.