डूबने से पिता व पुत्री की मौत, एसडीआरएफ की टीम ने शवों को निकाला

| सरगुजा जिले के उदयपुर थाना  इलाके  के ग्राम जरहाडीह में तालाब में डूबने से पिता-पुत्री की मौत हो गई.18 घंटे बाद एसडीआरएफ की टीम ने दोनों शवों को पानी से निकाला.

0 105

- Advertisement -

उदयपुर| सरगुजा जिले के उदयपुर थाना  इलाके  के ग्राम जरहाडीह में तालाब में डूबने से पिता-पुत्री की मौत हो गई.18 घंटे बाद एसडीआरएफ की टीम ने दोनों शवों को पानी से निकाला.

मिली जानकरी के मुताबिक़ ग्राम जरहाडीह में गुरुवार को रामू उम्र 40 वर्ष अपने 08 वर्षीय पुत्री कान्शी के साथ मछली मारने खालमुड़ा दोपहर 12 बजे करीब गया हुआ था.  खाल मुड़ा इनके घर से लगभग 01 किलोमीटर दूर जंगल किनारे स्थित है. मछली मारने इन दोनों के अलावा मृतक रामू का बेटा विनोद उम्र 10 वर्ष, आंशी उम्र 05 वर्ष भी साथ गये थे. इसकी बड़ी बेटी मांशी उम्र 15 वर्ष घर पर ही थी.

दोपहर 1 से 2 बजे के बीच मछली मार लेने के बाद रामू ने अपनी एक बेटी कान्शी को पीठ में उठ लिया और पानी के बीचों बीच पार होने लगा बेटा विनोद तथा एक बेटी आंशी को सुखे हुए रास्ते व मेड़ से घर की ओर जाने को कहा.  इसी बीच पानी में लगभग 30 मीटर दूर जाने पर पीठ में सवार बच्ची पानी में पहले डूबने लगी और अपने भाई बचाने की गुहार लगाने लगी.

तब विनोद ने अपने पिता को छोटी बहन को बचाने गुहार लगाई इस पर रामू ने जवाब दिया पैर फंस गया है विनोद ने पुनः कहा वापस आ जाईये तब रामू ने कहा पैर कीचड़ में फंस गया है और धीरे धीरे दोनों गहरे पानी में समाने लगे.

पानी में समाने से पहले रामू ने अपनी बेटी को बचाने का भरपुर प्रयास किया सबसे पहले उसने बेटी को पीठ से सिर पर रख लिया नाक और मुंह में पानी जाने की नौबत आने से पहले उसने बेटी को एक बार फिर दोनों हाथों से सिर के उपर तक उठा लिया और अंततः जब पानी में डूबने लगा तो बेटी भी हाथ से छुट गई और वह भी गहरे पानी में समा गई. दोनों को पानी में समाते छोटा बालक विनोद व बच्ची आंशी देखते रहे परंतु कुछ कर नहीं पाये.
कुछ देर बाद गांव के लोग आए तो घटना की सूचना पुलिस वालों को दी गई पुलिस की टीम मौके पर पहची और गांव के धनेश्वर, बाबुलाल, अशोक सहल और अन्य लोगों को पानी में डूबे लोगों  की तलाश के लिए भेजा गया परंतु सफलता नहीं मिली.

देखें  वीडियो 

- Advertisement -

अंततः एसडीआरएफ अम्बिकापुर की टीम को सूचना दी गई और एसडीआरएफ की टीम सायं 7 बजे करीब घटना स्थल आकर खोजबीन की परंतु रात होने से सफलता नहीं मिली, और रेस्क्यू का काम रोकना पड़ा.

शुक्रवार को सुबह 7 बजे फिर से खोजबीन शुरू किया गया एक घंटे  की कड़ी मशक्कत के बाद बासुदेव यादव के नेतृत्व में आई एसडीआरएफ की टीम को सफलता मिली. कीचड़ में फंसे  दोनों शवों को निकाला गया.

पुरी कार्यवाही के दौरान उप निरीक्षक समरेन्द्र सिंह प्रधान आरक्षक संतोश गुप्ता आरक्षक देवनारायण कंवर, रविन्द्र साहू अजय शर्मा सैनिक अपिकेश्वर और नीरज साहू सक्रिय रहे.

deshdigital के लिए क्रांति कुमार रावत 

Leave A Reply

Your email address will not be published.