New Year: छत्तीसगढ़ 31 करोड़, तेलंगाना 172 करोड़ तो आंध्र ने 124 करोड़ की शराब पी

New Year नए साल के स्वागत में छत्तीसगढ़ , उसके पडोसी राज्य तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में जमकर जाम छलके | जहाँ छत्तीसगढ़ में नए साल की पूर्व संध्या पर 31 दिसंबर को शराबी 31 करोड़ की शराब पी गए।

0 42

- Advertisement -

New Year नए साल के स्वागत में छत्तीसगढ़ , उसके पडोसी राज्य तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में जमकर जाम छलके | जहाँ छत्तीसगढ़ में नए साल की पूर्व संध्या पर 31 दिसंबर को शराबी 31 करोड़ की शराब पी गए। वहीँ छत्तीसगढ़ के पड़ोसी राज्य तेलंगाना और  आंध्र प्रदेश इस मामले में बहुत आगे रहे | तेलंगाना में 172 करोड़ तो आंध्र प्रदेश में 124 करोड़ की शराब गटके|

छत्तीसगढ़ में   New Year नए साल की पूर्व संध्या पर सरकारी शराब दुकानों ने जमकर बिक्री की | इस दिन 31 करोड़ की शराब बिकी  यानि शराबियों ने 31 करोड़ के शराब गटके इसमें देशी-विदेशी दोनों शामिल हैं |  इसमें राजधानी रायपुर अव्वल रहा,दुर्ग बिलासपुर राजनांदगाँव अंबिकापुर प्रथम पांच में शामिल रहे।

छत्तीसगढ़ के पड़ोसी राज्य तेलंगाना और  आंध्र प्रदेश इस मामले में बहुत आगे रहे | तेलंगाना में शराब पीने वालों ने एक दिन में 172 करोड़ रुपये की शराब पी| यहाँ 31 दिसंबर की रात 12 बजे तक शराब की दुकानों को भी शराब बेचने की इजाजत दी। हैदराबाद और पड़ोसी रंगा रेड्डी जिलों में सबसे ज्यादा बिक्री दर्ज की गई।

इसे भी पढ़ें :

शराब इतनी पी कि बाइक पर ही मौत

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक New Year के कारण तेलंगाना में  पब, बार और शराब की दुकानों के लिए समय बढ़ा दिया गया था, जिससे  बिक्री में उछाल आया।

आंध्र प्रदेश ने भी बार और शराब की दुकानों के लिए समय बढ़ा दिया था

- Advertisement -

आंध्र प्रदेश ने भी बार और शराब की दुकानों के लिए समय बढ़ा दिया था | वहीँ खुदरा दुकानों पर प्रीमियम ब्रांड उपलब्ध होने से भारी बिक्री हुई।

छत्तीसगढ़ में  शराब से हिंसा की शिकार  महिलाएं होती रही हैं | बलात्कार , हत्या के अलावा दीगर अपराध   की बहुत घटनाएँ सामने आती रही हैं | पिछले बरस  महासमुंद जिले में शराबी पति से तंग महिला ने अपने पुरे परिवार के साथ ट्रेन के आगे जान दे दी थी |

महासमुंद में एक महिला अपने 5 बच्चों के साथ ट्रेन से कटकर की खुदकुशी

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी को लेकर सत्ता में आई कांग्रेस सरकार शराबबंदी तो नहीं कर सकी अलबत्ता नए साल की पूर्व संध्या पर सरकारी शराब दुकानों ने जमकर बिक्री की | इस मुद्दे पर विपक्षी भाजपा हमेशा हमलावर रुख  अपनाकर सरकार की प्रतिबद्धता पर सवाल करती रही है |

इसे भी पढ़ें :

माँ की शराब की लत ने ले ली नन्ही बच्ची की जान

वहीँ आंध्र प्रदेश में भी सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस सरकार शराब की बिक्री में वृद्धि को लेकर  विपक्ष के निशाने पर  है। विपक्षी दलों ने चरणबद्ध तरीके से पूर्ण शराबबंदी के लिए सरकार की प्रतिबद्धता पर सवाल उठाया है। (deshdesk)

Leave A Reply

Your email address will not be published.