गनी राज से अधिक सेफ हुआ काबुल- रूस

0 24

- Advertisement -

काबुल। अफगानिस्तान में तैनात रूसी राजदूत दिमित्री झिरनोव ने तालिबान के आचरण की प्रशंसा की है। उनके दृष्टिकोण को “अच्छा, सकारात्मक और व्यापार जैसा” बताया है। उन्होंने कहा कि कट्टरपंथी इस्लामी समूह ने पहले 24 घंटों में काबुल को पिछले अधिकारियों की तुलना में अधिक सुरक्षित बना दिया है। मॉस्को के एको मोस्किवी रेडियो स्टेशन से बात करते हुए ज़िरनोव ने कहा, “स्थिति शांतिपूर्ण और अच्छी है और शहर में सब कुछ शांत हो गया है। तालिबान के तहत अब काबुल में स्थिति अशरफ गनी की तुलना में बेहतर है।”

आपको बता दें कि रविवार को अशरफ गनी अफगानिस्तान छोड़कर भाग गए। तिलाबिन आश्चर्यजनक तरीके से शासन पर कब्जा कर लिया। अफगान राष्ट्रपति ने दलील दी कि उन्होंने देश को खून-खराबे से बचाने के लिए देश छोड़ा। हालांकि अभी वह कहां हैं, इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। रूस की राज्य समाचार एजेंसी आरआईए नोवोस्ती ने बताया कि काबुल में रूसी दूतावास ने सोमवार को आरोप लगाया कि गनी काबुल से चार कारों और नकदी से भरा एक हेलीकॉप्टर लेकर भाग गए।

AddAdd

अफगानिस्तान पर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के विशेष प्रतिनिधि, ज़मीर काबुलोव ने सोमवार को कहा कि काबुल से गनी की भागना शर्मनाक था।  वहीं, ज़िरनोव ने कहा कि शुरू में तालिबान बिना हथियार के काबुल पहुंचा। सरकार और अमेरिकी बलों को अपने हथियार आत्मसमर्पण करने के लिए कहा। बाद में तालिबान के हथियारबंद लड़ाके भी पहुंच गए। गनी के देश छोड़ने के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया। रूसी राजदूत ने कहा कि तालिबान ने पहले ही रूसी दूतावास की सुरक्षा परिधि पर नियंत्रण कर लिया। यहां हमारे 100 से अधिक कर्मचारी हैं। उन्होंने कहा कि वह मंगलवार को तालिबान के साथ विस्तृत सुरक्षा वार्ता करेंगे।

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि तालिबान ने पहले के समझौतों के अनुरूप रूसी राजनयिकों की रक्षा करने का वादा किया था। उन्होंने कहा कि लड़कियां स्कूल जा रही हैं। काबुल में स्कूलों ने फिर से काम करना शुरू कर दिया है।

आपको बता दें कि रूस ने हाल के वर्षों में तालिबान से संपर्क किया है। हाल ही में पिछले महीने मास्को में कई बार अपने प्रतिनिधियों की मेजबानी की है। 1989 में सोवियत संघ द्वारा अपनी अंतिम सेना वापस लेने से पहले देश ने एक बार कट्टरपंथी इस्लामी समूह को नियंत्रित करने की कोशिश की और असफल रहा। काबुलोव ने सोमवार को कहा कि तालिबान के साथ संबंध बनाने का मास्को का लंबा अभियान अब रंग ला रहा है।

Addadd

काबुलोव ने एको मोस्किवी को बताया, “यह व्यर्थ नहीं है कि हम पिछले सात वर्षों से तालिबान आंदोलन के साथ संपर्क स्थापित कर रहे हैं। हमने देखा कि यह बल अंत में अगर पूरी तरह से सत्ता में नहीं आया तो किसी भी मामले में अफगानिस्तान के भविष्य में एक प्रमुख भूमिका निभाएगा।”  काबुलोव ने कहा कि रूस “नए अधिकारियों के आचरण” के आधार पर नई तालिबान सरकार को मान्यता देने का फैसला करेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.