छत्तीसगढ़ में 38 प्रतिशत किशोरों को टीका

छत्तीसगढ़  में  कुल लक्ष्य के 38 प्रतिशत किशोरों को टीका लगाया जा चुका है। विगत 3 जनवरी को इस आयु वर्ग के  टीकाकरण की शुरूआत के बाद पहले चार दिनों में ही कुल लक्ष्य के 38 प्रतिशत किशोरों को टीका लगाया जा चुका है।

0 13

- Advertisement -

रायपुर | छत्तीसगढ़  में  कुल लक्ष्य के 38 प्रतिशत किशोरों को टीका लगाया जा चुका है।

विगत 3 जनवरी को इस आयु वर्ग के  टीकाकरण की शुरूआत के बाद पहले चार दिनों में ही कुल लक्ष्य के 38 प्रतिशत किशोरों को टीका लगाया जा चुका है। मुंगेली, राजनांदगांव, धमतरी और महासमुंद जिले में शुरूआती चार दिनों में ही कुल लक्ष्य के आधे से ज्यादा किशोरों का टीकाकरण किया जा चुका है।

वहीं बालोद, बेमेतरा, कांकेर, गरियाबंद और कोंडागांव भी इसके करीब है। प्रदेश में कुल 16 लाख 39 हजार 811 किशोरों के टीकाकरण के लक्ष्य के विरूद्ध अब तक (6 जनवरी तक) छह लाख 18 हजार 089 को कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लगाया जा चुका है।

सभी जिलों में बनाए गए टीकाकरण साइट्स में किशोर-किशोरी उत्साह से पहुंचकर टीका लगवा रहे हैं। वर्ष 2005, 2006 और 2007 में पैदा हुए किशोरों का इन केंद्रों में टीकाकरण किया जा रहा है। 3 जनवरी से 6 जनवरी के बीच मुंगेली जिले में कुल लक्ष्य के 67 प्रतिशत, राजनांदगांव में 57 प्रतिशत, धमतरी में 56 प्रतिशत और महासमुंद में 51 प्रतिशत किशोरों का टीकाकरण किया जा चुका है।

वहीं बालोद और बेमेतरा में 15 से 18 वर्ष के 48-48 प्रतिशत, कांकेर में 47 प्रतिशत, गरियाबंद में 46 प्रतिशत, कोंडागांव में 45 प्रतिशत और बलौदाबाजार-भाटापारा में 40 प्रतिशत बच्चों को टीका लगाया जा चुका है।

कोरोना सक्रंमण से बचाव के लिए अब तक मुंगेली जिले में 32 हजार 737, राजनांदगांव में 54 हजार 980, धमतरी में 27 हजार 180, महासमुंद में 32 हजार 993, बालोद में 23 हजार 625, बेमेतरा में 26 हजार 672, कांकेर में 21 हजार 471, गरियाबंद में 17 हजार 162, कोंडागांव में 16 हजार 327, बलौदाबाजार-भाटापारा में 37 हजार 526, दुर्ग में 41 हजार 064, बिलासपुर में 40 हजार 200, दंतेवाड़ा में 6242 और रायगढ़ में 29 हजार 686 किशोरों को टीका लगाया गया है।

- Advertisement -

कोरोनारोधी टीके की पहली खुराक रायपुर जिले में 46 हजार 272 किशोरों को, जांजगीर-चांपा में 32 हजार 836 को, जशपुर में 16 हजार 099, सूरजपुर में 15 हजार 041, कबीरधाम में 17 हजार 054, कोरिया में 11 हजार 737, बलरामपुर-रामानुजगंज में 13 हजार 563, सरगुजा में 14 हजार 988, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही में 5838, बस्तर में 13 हजार, कोरबा में 18 हजार 074, बीजापुर में 2603, सुकमा में 2233 तथा नारायणपुर में 886 किशोर-किशोरियों को टीकाकरण की शुरूआत के पहले चार दिनों में दी गई है।

इधर कोरोना की तीसरी लहर में कोविड संक्रमण से बचाव और उपचार के लिए रायगढ़ जिले में की जा रही तैयारियों की स्कूल शिक्षा मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेम साय सिंह ने विस्तृत समीक्षा की। वर्चुअल रूप से आयोजित समीक्षा बैठक में डॉ. टेकाम अपने निवास कार्यालय से शामिल हुए।

उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण के बचाव एवं उपचार के सभी कार्यों को मिशन मोड में किया जाए, जिससे लोगों को बेहतर और त्वरित सुविधा पहुंचाई जा सके। उन्होंने कहा कि कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए सभी प्रकार की आर्थिक गतिविधियों का संचालन किया जाए। दैनिक उपयोग की आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी, मुनाफाखोरी करने वालों पर कड़ी निगरानी रखी जाए। उन्होंने जिले के कलेक्टर सहित स्वास्थ्य विभाग के अमले को कोविड प्रोटोकाल का पालन कराने के लिए दिशा-निर्देश दिए।

रायगढ़ जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. टेकाम ने कहा कि रायगढ़ जिले में औद्योगिक गतिविधियों की अधिकता होने के कारण बाहर से आने वाले लोगों के कोरोना टेस्ट पर विशेष ध्यान दिया जाए। सीमावर्ती और विदेशों से आने वाले लोगों की कोरोना जांच की जाए।

आवश्यकतानुसार क्वारेंटाईन सेंटर भी स्थापित किए जाए। अस्पतालों में कोरोना मरीजों की देखभाल और उपचार के लिए तय किए गए वार्डों में चिकित्सा उपकरणों की जांच कर उन्हें दुरूस्त कर लिया जाए। अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सहित सभी आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित कर ली जाए।

डॉ. टेकाम ने कहा कि सार्वजनिक स्थानों जैसे-रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड आदि स्थानों में कोविड जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग के मैदानी अमलों को तैनात किया जाए। विदेशों से आने वाले लोगों की सूचना अनिवार्य रूप कोविड नियंत्रण कक्ष को दी जाए। कोरोना पीड़ितों के उपचार और देखभाल के लिए जिले के स्वयं सेवी संगठनों, जनप्रतिनिधियों, व्यापारी संगठनों का भी सहयोग लिया जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.