दिल्ली एम्स में 6 से 12 साल के बच्चों पर कोरोना वैक्सीन ट्रायल मंगलवार से

दिल्ली एम्स 6 से 12 साल के बच्चों पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल मंगलवार से शुरू करेगा। इसके साथ ही स्क्रीनिंग भी शुरू हो जाएगी। क्लिनिकल परीक्षण भारत की पहली स्वदेशी रूप से विकसित कोवैक्सीन का होगा|

0 92

- Advertisement -

नई दिल्ली|   दिल्ली एम्स 6 से 12 साल के बच्चों पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल मंगलवार से शुरू करेगा। इसके साथ ही स्क्रीनिंग भी शुरू हो जाएगी। क्लिनिकल परीक्षण भारत की पहली स्वदेशी रूप से विकसित कोवैक्सीन का होगा|

बता दें एम्स पटना, मैसूर मेडिकल कॉलेज और कर्नाटक में अनुसंधान संस्थान को भी बच्चों पर क्लिनिकल परीक्षण करने के लिए चुना गया है।

मिडिया रिपोर्ट के मुताबिक एम्स पटना में 6-12 साल के बच्चों पर ट्रायल शुरू हो चुका है।
वहीँ दिल्ली में 15  जून मंगलवार से 6-12 साल के बच्चों की भर्ती और क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो जाएगा।
स्क्रीनिंग रिपोर्ट आने के बाद प्रतिभागियों को वैक्सीन दी जाएगी। परीक्षण यह सुनिश्चित करेगा कि भारत बायोटेक की वैक्सीन बच्चों के लिए उपयुक्त है या नहीं।

- Advertisement -

दिल्ली एम्स ने 12-18 आयु वर्ग के लिए सिंगल डोज कोवैक्सीन की भर्ती और क्लिनिकल ट्रायल खत्म होने के बाद यह ट्रायल ड्राइव शुरू करने का फैसला किया। परीक्षण 525 केंद्रों पर हो रहे हैं।

6-12 साल के बच्चों की भर्ती के बाद एम्स दिल्ली 2-6 साल के बच्चों के लिए ट्रायल करेगा। भारत के ड्रग रेगुलेटर द्वारा कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण करने की अनुमति दिए जाने के बाद 2 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों में एकल-खुराक कोवैक्सीन के परीक्षण के लिए बच्चों की स्क्रीनिंग 7 जून को नई दिल्ली के एम्स में शुरू हुई। ड्रग रेगुलेटर ने 12 मई को आयु वर्ग 2 से 18 वर्ष के लिए परीक्षणों की अनुमति प्रदान की थी।

बता दें विशेषज्ञ तीसरी लहर की संभावना जता रहे हैं। विशेषज्ञों एवं वैज्ञानिकों की ओर से कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों पर खतरा अधिक बताया जा रहा है, जिसकी वजह से पूरी दुनिया में बच्चों पर टीकों का ट्रायल किया जा रहा है। इसी वैश्विक अभियान के तहत भारत में भी अब बच्चों पर वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल शुरू किया जा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.