अमे‎रिका में प्लेग, चिपमंक्स पॉजिटिव पाया गया

कोरोना वायरस से दहशतजदा अमेरिका के कैलिफोर्निया प्रांत में चिपमंक्स नामक जीवों को प्लेग बीमारी से पॉजिटिव पाया गया है।

0 22

- Advertisement -

कैलिफोर्निया  । कोरोना वायरस से दहशतजदा अमेरिका के कैलिफोर्निया प्रांत में चिपमंक्स नामक जीवों को प्लेग बीमारी से पॉजिटिव पाया गया है। इसके बाद कैलिफोर्निया राज्य की सरकार ने और स्थानीय प्रशासन ने कुछ इलाकों को बंद करने का फैसला किया है।

इसमें प्रसिद्ध पर्यटन स्थल साउथ लेक ताहो, कीवा बीच और टेलर क्रीक शामिल हैं। बता दें ‎कि चिपमंक्स एक प्रकार की छोटी गिलहरियां होती हैं।

हाल ही में एक रूटीन जांच प्रक्रिया के दौरान साउथ लेक ताहो में चूहे, गिलहरियों और अन्य चूहे जैसी प्रजातियों के जीवों की जांच की गई।

रिपोर्ट्स के अनुसार 6 अगस्त से साउथ लेक ताहो, कीवा बीच और टेलर क्रीक इलाकों को आम लोगों के लिए बंद कर दिया जाएगा जानकारी के मुताबिक अब तक चिपमंक्स के संपर्क में किसी इंसान के आने का या प्लेग का कोई केस सामने नहीं आया है।

कैलिफोर्निया डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ के मुताबिक कैलिफोर्निया के कुछ इलाकों में प्लेग फैलाने वाला बैक्टीरियम यर्सिनिया पेस्टिस आमतौर पर पाया जाता है। इसमें एल डोराडो काउंटी का साउथ लेक ताहो इलाका प्रमुख है।

पिछली साल साउथ लेक ताहो इलाके में एक शख्स को प्लेग का संक्रमण हुआ था। यह पिछले पांच सालों में सामने आने वाला पहला केस था। साल 1300 में प्लेग की वजह से यूरोप में ब्लैक डेथ संक्रमण फैला था।

आज के समय में भी प्लेग होता है लेकिन बहुत कम मामले सामने आते हैं। क्योंकि आज के समय में प्लेग का इलाज मौजूद है। जानकारी के मुताबिक अमेरिका में हर साल प्लेग के करीब सात मामले आते हैं।

सबसे ज्यादा मामले न्यू मेक्सिको, उत्तरी एरिजोना, दक्षिणी कोलोराडो, कैलिफोर्निया, दक्षिणी ओरेगॉन और पश्चिमी नेवादा के सुदूर इलाकों में देखने को मिलते हैं।

- Advertisement -

कैलिफोर्निया के अधिकारियों ने कहा है कि जिन जगहों से प्लेग संक्रमण होने का डर है, वहां पर लोगों को जाने से रोकने का आदेश जारी किया जा चुका है,।

6 अगस्त से इन इलाकों में लोगों को आने-जाने से मनाही होगी। एल डोराडो काउंटी के पब्लिक हेल्थ ऑफिसर डॉ बॉब हार्टमैन ने कहा कि लोगों से अपील की गई है

कि पिकनिक स्थलों, कैंपग्राउंड एरिया जैसे इलाकों में गिलहरियों, चूहों और चिपमंक्स को खाना न खिलाएं। या फिर बीमार या मरे हुए इन जीवों को न छुएं।डॉ बॉब ने बताया कि लोगों से यह अपील भी की गई है

कि वो अपने पालतू जानवरों को इन चूहों, गिलहरियों और चिपमंक्स से दूर रखने का प्रयास करें। चूहों को पकड़ने के यंत्र लगाएं। लंबे पैंट्स पहने।

कीड़ों और मक्खियों को मारने वाले स्प्रे का उपयोग करें। साथ ही ऐसे स्थानों से दूर रहें जहां आपको इन जीवों के होने या उनके आसपास घूमने वाली मक्खियों के होने का अंदेशा हो।

कैलिफोर्निया के स्वास्थ्य विभाग और स्थानीय प्रशासन ने फैसला लिया है कि अब वो अन्य इलाकों में भी इन जीवों को लेकर सर्वे करेंगे। ताकि पूरे राज्य में प्लेग की स्थिति का आंकलन किया जा सके।

साथ ही कोरोना काल में दूसरी बीमारी फैलने से दिक्कत होगी, इसलिए अमेरिकी सरकार हर तरह की अन्य बीमारियों को फैलने से रोकना चाहती है।

सीडीसी के मुताबिक 1990 से अब तक सबसे ज्यादा प्लेग के मामले अफ्रीका में देखने को मिले हैं। यह बीमारी रोडेंट्स यानी चूहों जैसे जीवों से फैलती है।

खास तौर से चूहे, गिलहरियां, चिपमंक्स और उनके आसपास उड़ने वाली मक्खियों से। इंसानों में प्लेग का संक्रमण इन जीवों के पास घूमने वाली मक्खियों के काटने से होता है। या फिर आप इन चूहों, गिलहरियों के शरीर के टिश्यू या शरीर से निकलने वाले तरल पदार्थों के संपर्क में आए हों।

Leave A Reply

Your email address will not be published.