छत्तीसगढ़ : अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 4 घंटे के भीतर 4 नवजात शिशुओं की मौत

 छत्तीसगढ़  के सरगुजा जिला मुख्यालय अंबिकापुर स्थित मेडिकल कॉलेज अस्पताल में  एसएनसीयू में भर्ती 4 नवजात शिशुओं की 4 घंटे के अन्तराल में मौत हो गई |

0 17

अंबिकापुर|  छत्तीसगढ़  के सरगुजा जिला मुख्यालय अंबिकापुर स्थित मेडिकल कॉलेज अस्पताल में  एसएनसीयू में भर्ती 4 नवजात शिशुओं की 4 घंटे के अन्तराल में मौत हो गई | घटना से आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल के सामने सड़क पर चक्काजाम कर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया | अस्पताल प्रशासन की समझाइस  के बाद वे शांत हुए| डाक्टरों का कहना था कि सभी बच्चे प्रीमेच्योर थे|

मिली जानकारी के मुताबिक मेडिकल कॉलेज अस्पताल अंबिकापुर में 16 अक्टूबर की सुबह एसएनसीयू में भर्ती 4 नवजात शिशुओं की मौत 4 घंटे के भीतर  हो जाने से अस्पताल में मौजूद परिजन आक्रोशित हो गए। 4 में से शिशुओं को 12 अक्टूबर से 15 अक्टूबर के बीच यहाँ दाखिल कराया गया था |

परिजनों का आरोप है कि अस्पताल में सही समय पर इलाज उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। तैनात नर्स सही ढंग से जवाब तक नहीं देते हैं। किसी समस्या को लेकर जाने पर बुरा व्यवहार  करते हैं|

प्रदर्शन कर रहे  परिजन  स्वास्थ्य मंत्री को अस्पताल बुलाने की जिद कर रहे थे। लगभग 2 घंटे से ज्यादा समय तक हंगामा चलता रहा।

इस घटना की सूचना पर सिविल सर्जन डॉ. अनिल प्रसाद व शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. जेके रेलवानी  अस्पताल पहुंचकर परिजनों को समझाइश दी और अस्पताल में व्यापक समस्याओं को जल्द से जल्द दूर करने का आश्वासन दिया|  आश्वासन के बाद परिजन शांत हुआ और जाम  ख़त्म  किया।

- Advertisement -

इन नवजात शिशुओं की मौत पर शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. जेके रेलवानी ने बताया कि सभी शिशु प्रीमेच्योर थे।


बताया गया कि सूरजपुर जिले के सवारावा निवासी उदय सिंह  ने अपने 4 दिन के नवजात को 12 अक्टूबर को   भर्ती कराया था। उसे एसएनसीयू में रखा गया था। आज 16 अक्टूबर की सुबह 3.30 बजे मौत हो गई।

वहीँ राजपुर निवासी महेश अपने डेढ़ महीने के शिशु को 13 अक्टूबर को एसएनसीयू में भर्ती कराया था।  आज  16 अक्टूबर की सुबह 4 बजे  उसने दम तोड़ दिया ।

इसी तरह उदयपुर निवासी वालकेश्वर दो दिन के नवजात शिशु को 15 अक्टूबर को भर्ती कराया था। 16 अक्टूबर की सुबह 6.45 बजे मौत हो गई।

दरिमा निवासी देवानंद अपने 27 दिन के नवजात को 19 सितंबर को भर्ती कराया था। यहां इलाज के दौरान 16  अक्टूबर की सुबह 5 बजे मौत हो गई।

Leave A Reply

Your email address will not be published.