मौन होकर भी मुखर हो तुम, प्रथम स्पर्श प्यार हो तुम

0 24

नारी को सम्मान देने आज दुनिया महिला दिवस मना रही है , पर आप सोचें  जीवन का हर पल उसके बिना  संभव नहीं

तुम 

शब्द में जैसे अर्थ हो तुम
गीतों में नाजुक बन्ध हो तुम
सरगम की इक-इक लय में
कविता हो कोई छंद हो तुम
सुमन में सौंदर्य हो तुम
समीर में सौरभ हो तुम
सौन्दर्य में शचि हो तुम
पत्तियों में मुस्कराती शबनम हो तुम
—-
रूप हो तुम,रस हो तुम
गंध हो तुम, राग हो तुम
सांसों में जो नित-नित फिरता
प्राण बनी चेतना हो तुम
——-
सांसों की सरगम हो तुम
दिल की धड़कन हो तुम
पंचम स्वर में जो नित बोले
गीत वही संगीत हो तुम
——
अधरों की तपन हो तुम
सीने की जलन हो तुम
इन्द्रधनुषी रंग लिए
बहकी -बहकी ख्वाब हो तुम
—–
रजनी की राका हो तुम
सूरज की रश्मि हो तुम
रिमझिम मीठी फुहार हो तुम
ठंड गुलाबी मधुमास हो तुम
———-
कली सी नाजुक हो तुम
कलगी की लचक हो तुम
हर शब्दों में आहट देती
कवि की चरम कल्पना हो तुम
——
गरम हो तुम ,शीतल हो तुम
कोमल हो तुम , कठोर हो तुम
नरम हो तुम मंजुल हो तुम
प्रकृति की प्रतिकृति हो तुम
——–
मतवाले की मधुशाला हो तुम
जम पिलाती मधुबाला हो तुम
हर इक प्याले में छलकती
कड़वी-मीठी शराब हो तुम
——
इच्छा हो, अभिलाषा हो तुम
जीवन की परिभाषा हो तुम
आसों में सांसे भारती
मन की सारी शक्ति हो तुम
——
कलकल-छलछल सरिता हो तुम
पायल की रुनझुन मादकता हो तुम
मधुमय मंद झकोर हो तुम
स्वपन्मयी हिलोर हो तुम
——-
वामन का विपुल विस्तार हो तुम
विश्व का नवल श्रृंगार हो तुम
मौन होकर भी मुखर हो तुम
प्रथम स्पर्श प्यार हो तुम
——
एक अधूरी मुस्कान हो तुम
रहस्यमयी वरदान हो तुम
प्रगतिमय सोपान हो तुम
भूत, भविष्य,वर्त्तमान हो तुम
——-
पल हो, प्रतिपल,अनुपल हो तुम
दिवस, रात्रि, संध्या प्रभात हो तुम
विजय स्वर प्रत्येक क्षणों में
इतिहास रचती युग गाथा हो तुम
—–
समीर का मृदुल मंद हास हो तुम
शरद का शशि विलास हो तुम
बसंत का परिहास हो तुम
परिवर्तनों में समाहित पूर्णता हो तुम
——-
चपल अबोध बचपन में तुम
ताप-तप्त उग्र यौवन में तुम
शांत गंभीर अन्तकाल में तुम
बद्ध होकर मुक्त हो तुम
—-
प्रबल झंझा पवन हो तुम
शांत विस्तारित गगन हो तुम
मन के सूने आंगन में
मधुमासी विश्वास हो तुम
—–
कच्ची फसल की गमक हो तुम
माटी की सोंधी महक हो तुम
संभावनाओं को समेटे
सृष्टि की चरम अव्भियक्ति हो तुम
—-
दुखितों का विश्वास हो तुम
प्यास में जैसे नीर हो तुम
पथ हो, पाथेय भी हो
मील का पत्थर संबल हो तुम
—-
श्रेय हो तुम,प्रेय हो तुम
शिक्षा हो तुम ,ज्ञान हो तुम
योगी की साधना हो तुम
सत्यं, शिवम्, सुन्दरम हो तुम
——
तृष्णा हो तुम, तृप्ति हो तुम
उत्साह हो तुम, नैराश्य हो तुम
क्षितिज समेटे आँचल में
छलनामय बंधन हो तुम
—-
अमित युगों का संचित पुण्य हो तुम
शिव की कलिका शक्ति -पुंज हो तुम
प्रत्येक गृहों में रूप अन्नपुर्णा
दया, दृष्टि, क्षमा हो तुम
सन्देश अमर गीता हो तुम
विश्वास प्रखर कुरान हो तुम
प्रेम अमित बाइबिल हो तुम
त्याग अपरिमित गुरुग्रंथ हो तुम
—–
पतित पाविनी गंगा हो तुम
सृजन्मयी मेधा हो तुम
उर्वर हो मरू भी तुम से
ऐसी अक्षय उर्जा हो तुम
—–
पूजा हो तुम,भक्ति हो तुम
श्रद्धा हो,समर्पण हो तुम
सफलता और सार्थकता में तुम
प्रार्थना के गीत हो तुम
मां हो तुम, देवी हो तुम
प्रिय, प्रियतमा, पत्नी हो तुम
सखी,सहेली, बहन हो तुम
नाम नहीं,सर्वनाम हो तुम
——-

90 के दशक में जब मैं अपने पीएच डी शोध प्रबंध हिंदी विशेषणों का अर्थपरक अध्ययन में जुटा था | विशेषणों से गुजरते आखिर सर्वनाम पर आकर  रुक गया| इसे  मेरे ब्लॉग  http://viviksha.blogspot.in/search?updated-min=2008-01-01T00:00:00%2B05:30&updated-max=2009-01-01T00:00:00%2B05:30&max-results=16 पर भी पढ़ सकते हैं|

-डॉ. निर्मल कुमार साहू 

Leave A Reply

Your email address will not be published.