शादी के नाम पर सुंदर लड़कियों की फर्जी फ़ोटो दिखा धोखाधड़ी, गिरोह गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ की  बिलासपुर पुलिस ने मैट्रिमोनियल साइट के नाम पर सुंदर लड़कियों की फर्जी फ़ोटो दिखाकर शादी का प्रस्ताव देकर धोखाधड़ी करने वाले  गिरोह का पर्दाफाश किया है | गिरोह के गिरफ्तार  5 आरोपियों में से 3 महिलाएं हैं |

0 21

बिलासपुर | छत्तीसगढ़ की  बिलासपुर पुलिस ने मैट्रिमोनियल साइट के नाम पर सुंदर लड़कियों की फर्जी फ़ोटो दिखाकर शादी का प्रस्ताव देकर धोखाधड़ी करने वाले  गिरोह का पर्दाफाश किया है | गिरोह के गिरफ्तार  5 आरोपियों में से 3 महिलाएं हैं |

 पुलिस के मुताबिक  धोखाधड़ी करने वाला यह गिरोह ऑनलाइन एवं अखबार के माध्यम से शादी के विज्ञापन देने वालों को अपने निशाने पर लेता था|

यह गिरोह रिवाज और इंडियन कल्चर मैंट्रीमोनियल साइट के नाम से मैरिज सेंटर चलाते थे । आकर्षक सुंदर युवतियों की फर्जी फ़ोटो दिखाकर फोन में खुद ही बात कर  ग्राहकों को प्रभावित करते थे । इतना ही नहीं निजी समस्या ,दुर्घटना बताकर प्रभावित कर झांसे में लेकर पैसे मांगते थे ।

बिलासपुर जरहाभाठा निवासी 70 बरस के मिर्जा असीम बेग इस गिरोह का शिकार हुए | पत्नी की मौत के बाद एकाकी जीवन जी रहे असीम ने एक अख़बार में विज्ञापन देखा और इस गिरोह के सदस्य के चंगुल में आ गये |

दरअसल विज्ञापन में दिए नम्बर पर जब संपर्क किया तो साढ़े 8 हजार रूपये रजिस्ट्रेशन के नाम पर लिए गये | फिर दिए गये  फ़ोन पर बात करने पर  एक महिला ने अपना परिचय अंजू यादव के रूप में दिया|उसने लिव इन में रहने का वादा किया और फिर उसके झांसे में आते सवा लाख रूपये उसके खाते में जमा कर दिए | इसके बाद ठगी का अहसास हुआ तो पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई |

- Advertisement -

पुलिस ने तकनीकी साक्ष्य एकत्र करके रिवाज मैरिज ब्यूरो के संचालक मनीष उर्फ मालिक राम को हिरासत में ले पूछताछ की तो पूरा मामला सामने आने लगा | इस गिरोह में और कई के शामिल होने की बात सामने आई | ये बुजुर्गों को निशाना बनते थे जो एक्काकी जीवन जी रहे होते थे |

मनीष ने अपने साथी अजय साहू, संगीता यादव, पूजा कोरी व रोशनी मानिकपुरी का नाम बताया जो उनके साथ इस काम में शामिल थे। सभी लोग बिलासपुर, सीपत, मुंगेली के ही विभिन्न मोहल्लों में रहते हैं।

मिर्जा असीम बेग से पूजा यादव ने अंजु बताकर बातों में फंसाया था और कहा था कि उसके मामा बीमार हो गए हैं इसलिए वह जबलपुर आ गई है। बाद में उसने अलग-अलग परेशानी बता कर किस्तों में रुपये ठगे।

आरोपियों के कब्जे से मोबाइल फोन, सिम कार्ड, सीपीयू, लैपटॉप, रजिस्टर और 55,000 रुपये नगद जब्त किए गए हैं। आरोपियों को रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। रजिस्टर में दर्ज नामों से ठगी के शिकार अन्य लोगों का पता लगाया जा रहा है।

एएसपी उमेश कश्यप  

Leave A Reply

Your email address will not be published.