तीन दिनों तक लाश जलाता रहा, पिता के पेटीएम से की बेहिसाब खरीदारी  

मां-बाप और नानी की जघन्य हत्या करने के बाद तीन दिनों तक वह उनकी लाश जलाता रहा. इतना ही नहीं पिता के मोबाइल से पे टीएम के जरिये एसी,पलंग, मोबाइल और न जाने कितने समानों की बेहिसाब खरीददारी करता रहा. नशे का आदि आरोपी बेटा उदित भोई अक्सर पिता से पैसे की मांग करता रहता था.

0 440

- Advertisement -

पिथौरा /महासमुंद. मां-बाप और नानी की जघन्य हत्या करने के बाद तीन दिनों तक वह उनकी लाश जलाता रहा. इतना ही नहीं पिता के मोबाइल से पे टीएम के जरिये एसी,पलंग, मोबाइल और न जाने कितने समानों की बेहिसाब खरीददारी करता रहा. नशे का आदि आरोपी बेटा उदित भोई अक्सर पिता से पैसे की मांग करता रहता था. घटना की रात भी उनमें विवाद हुआ था.वह प्राचार्य पिता प्रभात भोई, माता झरना भोई एवं दादी सुलोचना भोई  के गुम होने की झूठी रिपोर्ट लिखा कर रिश्तेदारों और पुलिस को गुमराह करता रहा.

deshdigital ने इसे सबसे पहले  प्रमुखता से प्रकाशित किया था. पढ़ें

छत्तीसगढ़: बेटे ने लापता बता, माता-पिता और दादी की हत्या कर जला दी लाश !     

छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले के सिंघोड़ा थाना इलाके के पुटका ग्राम में हुई 3 हत्या का खुलासा करते पुलिस ने यह जानकारी दी. पुलिस द्वारा जरी विज्ञप्ति के मुताबिक ग्राम पुटका थाना सिंघोड़ा निवासी उदित भोई उम्र 24 वर्ष ने दिनांक 12.05.23 को प्रातः 10ः10 बजें थाना आकर सूचना दी कि उनके पिताजी प्रभात भोई पिता अंतर्यामी भोई उम्र 53 वर्ष  दिनांक 08.05.2023 के सुबह ईलाज कराने रायपुर जा रहा हूँ कहकर पत्नी झरना भोई उम्र 47 वर्ष एवं अपनी माँ सुलोचना भोई उम्र 75 वर्ष के साथ घर से निकले है जो आज तक घर वापस नही आये है. सूचना पर थाना सिंघोड़ा में गुम इंसान क्रमांक 05/23 कायम कर ढूंढना प्रारंभ किया गया.

थाना सिंघोड़ा की टीम गुम इंसानो की पता तलाश कर रही थी कि गुम इंसान प्रभात कुमार भोई का दूसरा बेटा अमित कुमार भोई जो पं0 जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कालेज रायपुर में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा है अपने घर पुटका आया. तब उसके चाचा पंचानन भाई ने उसे बताया कि तुम्हारे पिता प्रभात भोई, मां झरना भोई एवं दादी सुलोचना भोई दिनांक 08.05.2023 से घर पर नही हैं.जिसकी सूचना थाना सिंघोड़ा में देकर तुम्हारा बड़ा भाई उदित भोई गुम इंसान रिपोर्ट दर्ज कराया है.

अमित कुमार भोई अगले दिन सुबह चाचा पंचानन भोई के साथ अपने घर ग्राम पुटका गया तो घर पर बड़ा भाई उदित भोई नही था, घर के बाड़ी तरफ गया तो बाड़ी में कुछ जलाने का निशान देखा.  जला हुआ राख को हटाया तो उसमें मानव हड्डी के टुकडे़ पड़े मिले. अमित कुमार पूरे घर को चेक किया तो हाल के दिवाल पर खून के छिटे तथा बाडी में स्थित बाथरूम में खून जैसा धब्बा, बाड़ी में जलाने का निशान, बगल में एक छोटे से गड्ढे में राख का ढेर था, घर से पिता, माता एवं दादी गायब थे। यह सब देखकर अमित कुमार को कुछ अनहोनी होने का संदेह हुआ और अविलंब थाना सिंघोड़ा आकर इसकी सूचना दी.

प्रार्थी की सूचना पर थाना सिंघोड़ा की टीम तत्काल ग्राम पुटका पहुँचकर घटनास्थल का निरीक्षण किया तो बाड़ी में जलाने का निशान, राख के ढ़ेर में हड्डी, घर के हाल एवं बाथरूम में खून की छिटे देखे गये. घटनास्थल पर मिलने साक्ष्यों के आधार पर प्रथम दृष्टया गुम इंसान प्रभात भोई, झरना बाई एवं सुलोचना बाई का संदेहास्पद मृत्यु होना एवं आरोपी द्वारा साक्ष्य छिपाने का भरसक प्रयास करना प्रतीत हो रहा था.

- Advertisement -

सूचना वरिष्ठ अधिकारी को दिया गया, पुलिस महानिरीक्षक रायपुर क्षेत्र रायपुर श्री शेख आरिफ हुसैन (IPS) के मार्गदर्शन में पुलिस अधीक्षक श्री धर्मेन्द्र सिंह (IPS) द्वारा तीन व्यक्तियो का अचानक गायब हो जाना व उनके घर में जला हुआ मानव हड्डी, हाल में खून के छिटे, घर में हुये जघन्य अपराध हत्या की जांच हेतु अति0 पुलिस अधीक्षक श्री आकाश राव एवं अनु0अधिकारी (पु) महासमुंद श्री अभिषेक केशरी के निर्देशन में थाना सिंघोड़ा एवं सायबर सेल से टीम का गठन किया गया.

पुलिस टीम अलग-अलग दिशा में कार्य कर उनकी परिवारिक दिनचर्या के बारे में जानकारी प्राप्त किया तो पता चला कि गुम इंसान प्रभात भोई घर में अपनी पत्नी, मां, एवं पुत्र उदित भोई के साथ रहते थे. प्रभात भोई का छोटा लड़का अमित कुमार भोई मेडिकल कालेज रायपुर में पढ़ाई कर रहा है.

बड़ा लड़का उदित भोई नशे का आदि है अनुकंपा नियुक्ति और पैसे की बात को लेकर आये दिन माता-पिता एवं दादी से वाद-विवाद करते रहता था.

उदित भोई को हिरासत में लेकर बाड़ी में क्या जलाना, राख में मिलें हड्डी के टुकडे़ किसका है, दिवालो पर खून के छिंटे किसका है, माता-पिता एवं दादी का होने संबंधी पूछताछ किया गया तो पुलिस को गुमराह करने लगा और गोलमोल जवाब देने लगा. पुलिस की टीम के द्वारा तथ्यों के आधार पर कड़ाई से पूछताछ किया तो वह अंततः टूट गया व अपना अपराध छिपा नही सका और अपने माता-पिता एवं दादी की हत्या करना स्वीकार किया.

देखें वीडियो 

उसने बताया कि घटना दिनांक के पूर्व में हुये रूपयें-पैसे को लेकर पिता जी प्रभात भोई के बीच झगड़ा विवाद होने के कारण माता-पिता से नाराज होकर अपने कमरे में सो गया था. दिनांक 07-08.05.2023 के दरम्यानी रात्रि करीबन 02-03 बजे के मध्य जब उठकर देखा तो इनके माता-पिता एवं दादी कमरे में सो रहे थे. जिसका फायदा उठाकर जान से मारने की नियम से अपने पास रखे हाकी स्टीक से पिता, माता एवं दादी की सिर में प्राणघातक हमला कर हत्या कर दी.

लाश को बाड़ी में बने बाथरूम के तरफ रखा दिया तथा घटना के दो दिन बाद दिनांक 10-11.05.23 को तीनों के शव को घर में रखे लकड़ी से जला दिया. लाश  को जलाने के बाद बचे राख एवं हड्डी को वही पास एक छोटा गढढ़ा में दबा दिया था. हत्या करने के बाद साक्ष्य छिपाने हेतु घर को अच्छी तरह सफाई कर दिया था और अपने पिता प्रभात भोई को जिन्दा बताने हेतु उनके फोन-पे के माध्यम से खरीदारी कर रहा था, किन्तु पुलिस से कुछ भी छिपा नही पाया.

आरोपी के निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त हाकी स्टीक, सेनेटाइजर, लाईटर को दिवाल पलंग के अंदर छिपाकर रखा था जिसे जब्त  कर आरोपी के विरूद्ध थाना सिंघोड़ा में अपराध  कायम कर आरोपी को गिरफ्तार किया गया.

यह रही टीम

सम्पूर्ण कार्यवाही पुलिस अधीक्षक श्री धर्मेन्द्र सिंह के मार्गदर्शन में अति. पुलिस अधीक्षक श्री आकाश राव एवं अनु.अधिकारी (पु) महासमुंद श्री अभिषेक केसरी के निर्देशन में थाना प्रभारी सिंघोड़ा निरी. केशव कोशले, थाना प्रभारी सरायपाली आशीष वासनिक, थाना प्रभारी पिथौरा शिवानंद तिवारी, सायबर सेल प्रभारी नसीम उद्दीन खान, सउनि प्रकाश नंद प्रआर भोज कुमार पटेल आर हेमन्त नायक, शुसांत बेहरा, चितरंजन प्रधान, चम्पलेश ठाकुर, छत्रपाल सिन्हा, बसंत, संजय, धर्मेन्द्र साहू, यश ठाकुर, विरेन्द्र बाघ एवं टीम द्वारा की गई.

Leave A Reply

Your email address will not be published.