वित्त वर्ष 2020-21 में भारत से 30,000 करोड़ रुपये मूल्य के 17 लाख एमटी मसालों का निर्यात हुआ

स्पाइसेज बोर्ड ने भारतीय मसाला निर्यातकों, थाईलैंड में मसाला आयातकों, व्यापारिक संगठनों, चैम्बर ऑफ कॉमर्स, अग्रणी सुपरमार्केट चेन, डिपार्टमेंटल स्टोर आदि

0 86

- Advertisement -

नई दिल्ली । स्पाइसेज बोर्ड ने भारतीय मसाला निर्यातकों, थाईलैंड में मसाला आयातकों, व्यापारिक संगठनों, चैम्बर ऑफ कॉमर्स, अग्रणी सुपरमार्केट चेन, डिपार्टमेंटल स्टोर आदि को एक साथ लाने के लिए भारतीय दूतावास, बैंकॉक के साथ मिलकर एक इंटरनेशनल बायर सेलर मीट (आईबीएसएम) और एक वेबिनार का आयोजन किया।

इस कार्यक्रम में भारत के 240 से ज्यादा निर्यातक और थाईलैंड के 60 से ज्यादा आयातक शामिल हुए।

थाईलैंड में भारत की राजदूत सुचित्रा दुरई ने इस ऑनलाइन कार्यक्रम का उद्घाटन किया। अपने संबोधन में उन्होंने दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक संबंधों और थाईलैंड में भारतीय मसालों के लिए अवसरों को रेखांकित किया।

वाणिज्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव दिवाकर नाथ मिश्रा ने भी इस अवसर पर संबोधन दिया। कार्यक्रम में विशेष संबोधन के दौरान, स्पाइसेज बोर्ड में सचिव डी. साथियान ने कहा, “देश में मसालों की खरीद और आपूर्ति के बीच के बीच कोई कमी/ बाधा नहीं रहे, यह सुनिश्चित करने के लिए बोर्ड डिजिटल बायर-सेलर मीट (बीएसएम) की एक सीरीज आयोजित कर रहा है।

- Advertisement -

इन बीएसएम से किसानों, व्यापारियों और निर्यातकों को खासा लाभ हुआ है। साथियान ने कहा, “बोर्ड निर्यात को सुगम बनाने और प्रोत्साहन देने के लिए एक विशेष वर्चुअल प्लेटफॉर्म शुरू करने की प्रक्रिया में है।

यह प्लेटफॉर्म निर्यातकों को प्लेटफॉर्म पर अपना वर्चुअल कार्यालय स्थापित करने की सुविधा के अलावा व्यापार और बाजार से जुड़ी नवीनतम जानकारी उपलब्ध कराएगा।

” उन्होंने कहा, “पोर्टल में भारतीय मसाला उद्योग के लिए वर्चुअल व्यापार मेलों और बैठकों, सेमिनारों, कार्याशालाओं, प्रशिक्षण कार्यक्रमों आदि की सुविधाएं भी होंगी।

मंत्रालय के आंकड़ों अनुसार, वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान 30,000 करोड़ रुपये के 17 लाख एमटी से ज्यादा भारतीय मसालों का निर्यात हुआ था। महामारी के बावजूद यह डॉलर में 4 अरब डॉलर के ऐतिहासिक स्तर को पार कर गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.