भूपेश सरकार हर मोर्चे पर विफलः शंकर अग्रवाल

भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य एवम मुंगेली जिला भाजपा प्रभारी शंकर अग्रवाल ने एक प्रेस वार्ता में भूपेश सरकार पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार हर मोर्चे पर विफल है। जिससे गिरावट के अपने ही रिकॉर्ड रोज तोड़ते जा रही है...

0 26

- Advertisement -

पिथौरा। भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य एवम मुंगेली जिला भाजपा प्रभारी शंकर अग्रवाल ने मंगलवार को एक प्रेस वार्ता में भूपेश सरकार पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार हर मोर्चे पर विफल है। जिससे गिरावट के अपने ही रिकॉर्ड रोज तोड़ते जा रही है आजाद भारत के इतिहास में इतनी निर्मम, ऐसी नृशस, वादाखिलाफी करने वाली, झूठ की लगातार मीनार खझ कर, महज बहानेबाजी में बिजी में रत रहने वाली ऐसी सरकार आजतक नहीं हुई है।

अग्रवाल ने कहा कि संवैधानिक भूपेश बघेल रोज एक नया झूठ गढ़ रहे हैं। इस तरह निर्लज्जता के साथ आजतक किसी भी सरकार ने कभी झूठ नहीं बोला है। दुखद यह है कि अपने किसी भी झूठ के पकड़े जाने पर न तो इन्हें न ही कोई शर्मिंदगी नही है। झूठों की इसी श्रृंखला में सबसे ताजा झूठ इनका बारदाने के लेकर है। हर बार ये न केवल इस मामले में झूठ बोलते है कि प्रधानमंत्री जी तक को पत्र लिखते समय भी मर्यादा का ख्याल नहीं रखते।

आप सभी जानते है बारदाना खरीदना और उसकी व्यवस्था करना पूरी तरह प्रदेश सरकार का काम है अनेक बार सदन में खुद सरकार ने स्वीकार भी किया है कि बारदाना की व्यवस्था करना प्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल के सवाल के जवाब में सदन में साफ-साफ सरकार ने स्वीकार किया कि केंद्र सरकार द्वारा बारदाना उपलब्ध नहीं कराया जाता है। कोलकाता जूट कमिश्नर से बारदाना खरीदा जाता है। बावजूद इसके न जी को अनावश्यक पत्र लिखा है।

सरकार चुनाव लड़ने और उसके लिए संसाधनों की व्यवस्था में भी व्यस्त रहते है। अतः उनके पास प्रदेश की जनता, किसानों के लिए जरा भी वक्त नहीं होता भाजपा बार-बार समय रहते ही को सावधान करते रही थी कि वह बारदाने की उपलब्धता पर ध्यान दें। लेकिन कांग्रेस ने ऐसी कोई व्यवस्था समय रहते नहीं की दुर्भाग्य की बात है कि अपनी अक्षमता और निकम्मापन स्वीकार करने के बदले उलटे केंद्र पर सवाल उठाते रहती है।

- Advertisement -

प्रदेस सरकार किसानों को बरबाद करने तुली हुई है। वैसे ही एक माह विलम्ब से धान खरीदी करने के निर्णय से अभी तक इसे शुरू नहीं करने के कारण किसानों की तैयार फसल बर्बाद हो गयी है। दुखद है कि प्रदेश में लगभग पाथ सौ किसानों ने आत्महत्या की है, लेकिन लखीमपुर में घड़ियाली आंसू बहाने वाली सरकार प्रदेश में उन किसान परिवारों के बारे में दो शब्द भी कहना उचित नहीं समझा। अब किसानी से हो बारदाने की व्यवस्था करने को कहना, उसे बारदाने का पिछला भुगतान भी नहीं करना इस सरकार की एक और असफलता है।

अब किसान अपना पंजीयन तक कराने के लिए भी दर-दर भटक रहे हैं. अगर उनकी दो सोसाइटियों में जमीन है तो एक जगह शून्य दिखाया जा रहा है काफी सारे आईडी ब्लॉक है. सोसाइटियों में हड़ताल के कारण किसी भी किसान की टोकन नहीं मिल पा रहा है। केवल ऋण पुस्तिका रखी जा रही है सरकार को भाजपा यह चेतावनी देना चाहती है कि जल्द से जल्द धान खरीदी आदि की व्यवस्था सुचारू करे।कांग्रेस की बहानेबाजी का एक और बेशर्म अध्याय प्रधानमंत्री आवास योजना पर की गयी बयानबाजी है. अभी तक 11 लाख से अधिक गरीबों के सर से छत छीनने का पाप किया है।

भाजपा सरकार के समय भी आपने सभी केंद्रीय योजनाओं को प्रदेश में लागू होते हुए देखा है, कांग्रेस की भी सरकार केंद्र में रही तब भी भाजपा सरकार ने ऐसी कोई दुर्भावना नहीं दिखाई उलटे अधिक से अधिक योजनाओं से लाभ हो जनता का इसलिए कोशिश करती रही थी यह तो अपने आपने अनोखा मामला है कि क्योंकि पैसे भाजपा सरकार दे रही है, अतः नफरत के कारण कांग्रेस उस योजना को वापस कर देगी अपना राज्यास भी नहीं देगी दुखद यह है कि समूचे प्रदेश को पीढ़ियों तक के लिए कर्जदार बना कर भी यह सरकार सारे पैसे कहीं और भेज रही है शायद इसी कारण राज्याश तक देने के लिए के पास पैसे नहीं है.।

इसी तरह का एक और तुगलकी फैसला इस सरकार ने रेडी टू इट का काम प्रदेश की महिलाओं से छीन कर बीज निगम को देने का फैसला किया है ऐसा करने का एकमात्र मकसद इस मामले में भी बड़े से बड़े भ्रष्टाचार को अंजाम देना है ऐसा कर कांग्रेस ने सीधे तौर पर 21 हजार से अधिक गरीब आदिवासी महिलाओं के पेट पर लात मारा है 21 हजार परिवारों के मूह से निवाला छीनने का काम किया है एक तो यह निकम्मी सरकार एक नया रोजगार नहीं दे पायी है किसी को उलटे पहले से चले आ रहे रोजगारों को भी छीन कर जनता से किन बाद का बदला ले रही है।

यह समझ से परे है कि मातृशक्ति का निवाला छीनने के कृत्य के लिए भाजपा महिला मोर्चा की बहने इस नादिरशाही सरकार की ईंट से ईट बजाने तैयार है। प्रदेश भर में मोर्चा की बहने और भाजपा भी बड़ा से बड़ा आन्दोलन खड़ा करेगी और इस फैसले की वापसी तक पैन से नहीं बैठेगी भाजपा यह मांग करती है कि वह बिना किसी हीलाहवाली के एक-एक दाना धान खरीदे 11 लाख से अधिक परिवारों के सर से छीने छत को वापस करे, उनके लिए घर की करें और रेडी टू ईट से सबन्धित को तुरंत प्रभाव से वापस ले।

Leave A Reply

Your email address will not be published.