पोला त्यौहार पर बच्चों ने दौड़ाये  मिट्टी के बैल

छत्तीसगढ़ के पारंपरिक त्यौहार पोला आज क्षेत्र में धूमधाम से मनाया जा रहा है. ग्रामीण क्षेत्र में बच्चों को मिट्टी का बैल दौड़ाते देखा जा रहा है।वही किसान अपने बैलों की पूजा कर खिचडी खिला रहे है.

0 170

- Advertisement -

पिथौरा| छत्तीसगढ़ के पारंपरिक त्यौहार पोला आज क्षेत्र में धूमधाम से मनाया जा रहा है. ग्रामीण क्षेत्र में बच्चों को मिट्टी का बैल दौड़ाते देखा जा रहा है।वही किसान अपने बैलों की पूजा कर खिचडी खिला रहे है.

पोला पर्व आज भादो अमावस्या के दिन मनाया जा रहा है मान्यता है कि पोला के त्यौहार में बैलों की विशेष पूजा अर्चना की जाती है साथ ही कृषि कार्यों को विराम दिया जाता है.

पिथौरा में पोला त्यौहार की काफी धूम है बच्चे काफी उत्साहित हैं मिट्टी के बैलों से बच्चे खेलते नज़र आये साथ ही मिट्टी के नन्दी बैल व मिट्टी के जांता पोला मिट्टी के बने बर्तन को आज के दीन विषेश पुजा की जाती है घर मे बने छत्तीसगढी पकवान ठेठरी, खुरमी, गुड से बने चिला , बडा , का आज मिठ्ठी के बने बैल ,व मिट्टी के बर्तन मे प्रसाद के रूप मे चढाया जाता है.

- Advertisement -

गांव मे इस पर्व को मनाने के लिए कृषी कार्य सहित सभी खेती किसानी के कार्य बन्द रखते है और शाम होते ही भोजली का विसर्जन करके हरेली से गेड़ी चढ़कर आनंद उठा रहे लोग गेड़ी तोड़ते है.

पोला के पूर्व प्रदेश सरकार द्वारा किसान न्याय योजना के तहत खाते में रकम डालने से किसान यह पर्व काफी उत्साह से मना रहे है जिसके कारण बाजार में रौनक भी लौट आयी है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.