जंगल काट कर कब्जा, सांकरा के घने जंगल पर खतरा!

समीप के ग्राम सांकरा जंगल के कक्ष क्रमांक 258 में विगत कुछ वर्षों से कुछ बाहरी लोगों द्वारा बकायदा जंगल काट कर कब्जा कर लिए जाने के बाद अब ग्रामीणों ने अवैध कब्जा

0 218

- Advertisement -

पिथौरा| समीप के ग्राम सांकरा जंगल के कक्ष क्रमांक 258 में विगत कुछ वर्षों से कुछ बाहरी लोगों द्वारा बकायदा जंगल काट कर कब्जा कर लिए जाने के बाद अब ग्रामीणों ने अवैध कब्जा हटाने की लगातार मांग के बाद ग्रामीणों ने भी जंगल काटना प्रारम्भ कर दिया है . जिससे सांकरा के घने जंगल के अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगा है.

ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार उन्होंने वन विभाग को एक शिकायत लिख कर बताया है कि ग्राम पंचायत बडेटेमरी व ग्राम पंचायत सांकरा के मध्य कक्ष क्रमांक 258 में बाहरी व्यक्ति (शिकारी) द्वारा शासन से रोपित सागौन के बड़े वृक्षों को काटकर लगभग 1 एकड़ वन भूमि पर अवैध कब्जा कर भवन निर्माण कर रहा है. उसके द्वारा उसी वन भूमि पर मूर्ति स्थापना कर पूजा पाठ प्रारंभ कर दिया है . और भविष्य में कब्जा करने की फिराक में है.

- Advertisement -

तथा उसी के द्वारा कब्जा भूमि के पूर्व दिशा मे भी कब्जा किया था जिसे वन विभाग द्वारा हटाया गया है. ज्ञात हो कि इन्हीं के द्वारा ग्राम बडेटेमरी में भी वन भूमि पर अवैध कब्जा कर मकान निर्माण कर लिया है. ग्रामीणों ने उक्त अवैध निर्माण तत्काल हटाने की मांग करते हुए चेतावनी दी थी और कहा था कि यदि उक्त व्यक्ति से 7 दिवस के भीतर कब्जा नही हटवाया गया तो
हम ग्रामीणों द्वारा कक्ष क्रमांक 258 में पेड काटकर कब्जा किया जायेगा. जिसकी जिम्मेदारी वन विभाग की होगी. इसके बाद कल ग्रामीणों ने जंगल का एक हिस्सा काटना प्रारम्भ कर दिया. इसके बावजूद इन्हें रोकने वन अमला कही दिखाई नही दिया.

अधिकारियों को जानकारी दी गयी है- वन रक्षक
उक्त मामले में सांकरा बीत के वन रक्षक सोहन यादव ने  बताया कि कुछ शिकारी विगत 3 साल से कक्ष क्रमांक 258 के एक हिस्से में बड़े पेड़ काट कर अपना घर बना चुके हैं.  पूर्व में कोरोना महामारी के कारण कार्यवाही नही की जा सकी थी अब कार्यवाही हेतु उच्च अधिकारियों को जानकारी दे दी गयी है परन्तु अधिकारी ध्यान नही दे रहे.

वहीं पिथौरा के प्रभारी रेंजर श्री तांडे ने बताया कि उन्हें जानकारी नहीं  है अभी दिखाता हूँ. अवैध हुआ तो कब्जा हटा कर मामला न्यायालय को सौंपा जाएगा.

deshdigital के लिए रजिंदर खनूजा 

Leave A Reply

Your email address will not be published.