बिरजू महाराज नहीं रहे

 बिरजू महाराज  नहीं रहे | बीते कुछ समय से उन्हें दिल्ली के साकेत हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था | बीती रात दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्होंने अंतिम सांस ली|

0 91

- Advertisement -

नई दिल्ली। बिरजू महाराज  नहीं रहे | बीते कुछ समय से उन्हें दिल्ली के साकेत हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था | बीती रात दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्होंने अंतिम सांस ली|

बिरजू महाराज की पोती रागिनी ने बताया कि महाराज का एक महीने से इलाज चल रहा था। बीती रात करीब 12.15-12.30 बजे उन्हें सांस लेने में तकलीफ हुई; जिसके बाद उन्हें अस्पताल में एडमिट किया गया, लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी।

प्रसिद्ध कथक नर्तक पद्म विभूषण से सम्मानित 83 साल के बिरजू महाराज के निधन पर कला जगत ने विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है | सोशल मीडिया पर उन्हें याद  किया जा रहा है |

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्म विभूषण से सम्मानित पंडित बिरजू महाराज के निधन पर ट्वीट कर शोक व्यक्त किया।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने महान कत्थक नृत्य कलाकार पंडित बिरजू महाराज के निधन पर शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा है कि उनका निधन पूरे विश्व के लिये अपूरणीय क्षति है।

- Advertisement -

एक ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा हैः

“भारतीय नृत्य कला को विश्वभर में विशिष्ट पहचान दिलाने वाले पंडित बिरजू महाराज जी के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। उनका जाना संपूर्ण कला जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। शोक की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजनों और प्रशंसकों के साथ हैं। ओम शांति!”

छत्तीसगढ़ के आईपीएस दीपांशु काबरा ने बिरजू महाराज का एक वीडियो शेयर करते श्रद्धांजलि दी है | सिरपुर महोत्सव पर उनकी यादगार प्रस्तुति  के इस वीडियो के साथ ट्विट किया है –

 

बिरजू महाराज का जन्म 4 फरवरी 1938 को लखनऊ में हुआ था। इनका असली नाम पंडित बृजमोहन मिश्र था। ये कथक नर्तक होने के साथ साथ शास्त्रीय गायक भी थे। बिरजू महाराज के पिता अच्छन महाराज, चाचा शंभु महाराज और लच्छू महाराज भी प्रसिद्ध कथक नर्तक थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.