नकली उत्पाद: KVIC ने मुंबई के 68 बरस पुराने MKVIA का “खादी प्रमाणन” रद्द किया

खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने नकली/गैर-खादी उत्पादों की बिक्री के लिए उसने अपने सबसे पुराने मुंबई खादी और ग्रामोद्योग संघ ( MKVIA)  का "खादी प्रमाणन" रद्द कर दिया है|

0 191

- Advertisement -

नई दिल्ली | खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने नकली/गैर-खादी उत्पादों की बिक्री के लिए उसने अपने सबसे पुराने मुंबई खादी और ग्रामोद्योग संघ ( MKVIA)  का “खादी प्रमाणन” रद्द कर दिया है|

खादी और ग्रामोद्योग आयोग KVIC ने हाल के वर्षों में नकली/गैर-खादी उत्पादों की बिक्री के खिलाफ “जीरो टॉलरेंस” को अपनाया है। इसी क्रम में उसने अपने सबसे पुराने मुंबई खादी और ग्रामोद्योग संघ (MKVIA) का “खादी प्रमाणन” रद्द कर दिया है, जो 1954 से मुंबई में डॉ. डीएन सिंह रोड पर स्थित हेरिटेज बिल्डिंग मेट्रोपॉलिटन इंश्योरेंस हाउस में प्रतिष्ठित “खादी एम्पोरियम” चला रहा था।

KVIC ने पाया कि डॉ. डीएन रोड पर स्थित उक्त खादी एम्पोरियम असली खादी की आड़ में गैर-खादी उत्पाद बेच रहा था। नियमित निरीक्षण के दौरान KVIC के अधिकारियों ने एम्पोरियम से नमूने एकत्र किए जो गैर-खादी उत्पाद पाए गए। केवीआईसी ने आयोग द्वारा जारी “खादी प्रमाणपत्र” और “खादी चिह्न प्रमाणपत्र” के मानदंडों का उल्लंघन करने के लिए MKVIA को कानूनी नोटिस जारी किया

- Advertisement -

पंजीकरण रद्द करने के साथ खादी एम्पोरियम प्रामाणिक खादी आउटलेट नहीं रह जाता है और अब उसे एम्पोरियम से खादी उत्पादों को बेचने की अनुमति नहीं है। KVIC ब्रांड खादी की विश्वसनीयता व लोकप्रियता का दुरुपयोग करके आपराधिक विश्वासघात व जनता को धोखा देने के लिए MKVIA के खिलाफ कानूनी कार्रवाई पर भी विचार कर रहा है।

KVICने वर्ष 1954 में खादी एम्पोरियम का संचालन और प्रबंधन एक पंजीकृत खादी संस्थान MKVIA को इस सख्त शर्त पर सौंपा था कि वह एम्पोरियम से केवल “प्रामाणिक खादी उत्पाद” ही बेचेगा। हालांकि हाल के वर्षों में MKVIA नकली खादी उत्पाद बेचकर अनुचित व्यापार में लिप्त रहा और इस तरह लोगों को धोखा दिया गया जो इस धारणा के साथ आते थे कि यह एम्पोरियम KVIC द्वारा चलाया जा रहा है।

यह उल्लेख करना प्रासंगिक है कि KVIC ने पिछले कुछ वर्षों में अपने ब्रांड नाम “खादी इंडिया” के दुरुपयोग और अपने ट्रेडमार्क में उल्लंघन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। KVICने अब तक खुदरा ब्रांड फैबइंडिया सहित 1200 से अधिक व्यक्तियों और फर्मों को “खादी” ब्रांड नाम का दुरुपयोग करने और “खादी” के नाम से गैर-खादी उत्पादों को बेचने के लिए कानूनी नोटिस जारी किए हैं। KVIC ने फैबइंडिया से 500 करोड़ रुपये का हर्जाना मांगा है, जो बंबई उच्च न्यायालय के समक्ष लंबित है। पिछले साल KVIC ने ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल्स अमेजॉन, फ्लिपकार्ट और स्नैपडील को 140 वेब लिंक्स हटाने के लिए मजबूर किया जो गैर-खादी उत्पादों को “खादी” के रूप में बेच रहे थे।

ऐसे कई मामलों में KVIC ने उल्लंघन करने वालों को अदालतों में घसीटा और उन्हें “खादी” ब्रांड नाम का दुरुपयोग करने से रोकने के आदेश प्राप्त किए। इसके परिणाम स्वरूप कई उल्लंघन करने वालों ने माफी मांगी और भविष्य में ब्रांड नाम “खादी” का उपयोग नहीं करने का वचन दिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.