पिथौरा :  वनभूमि पर अवैध कब्जा, 44 ग्रामीण गिरफ्तार

महासमुंद जिले के पिथौरा के वन अधिकारियों ने ग्राम भजपुरी में वनभूमि पर अवैध कब्जा करने के आरोप में 44 ग्रामीणों को गिरफ्तार किया है| इन पर वन अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है| जंगल से छोटी झाड़ियां एवम बल्ली कटाई कर अतिक्रमण करने में प्रयुक्त 39 कुल्हाड़ी भी विभाग द्वारा जब्त की गई है। स्थानीय वन एसडीओ यू आर बसन्त के नेतृत्व में परिक्षेत्र अधिकारी एस आर निराला एवम वन अमले द्वारा यह कार्रवाई की गई।

0 44

deshdigital

पिथौरा|  महासमुंद जिले के पिथौरा के वन अधिकारियों ने ग्राम भजपुरी में वनभूमि पर अवैध कब्जा करने के आरोप में 44 ग्रामीणों को गिरफ्तार किया है| इन पर वन अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है| जंगल से छोटी झाड़ियां एवम बल्ली कटाई कर अतिक्रमण करने में प्रयुक्त 39 कुल्हाड़ी भी विभाग द्वारा जब्त की गई है। स्थानीय वन एसडीओ यू आर बसन्त के नेतृत्व में परिक्षेत्र अधिकारी एस आर निराला एवम वन अमले द्वारा यह कार्रवाई की गई।

मिली जानकारी के अनुसार कल शुक्रवार को पिथौरा वन परिक्षेत्र के भजपुरी जंगल मे ग्रामीणों द्वारा छोटे छोटे पेड़ पौधे काट कर अतिक्रमण करने की सूचना मिली थी|  जानकारी मिलने के बाद स्थानीय वन एसडीओ यू आर बसंत, प्रभारी परिक्षेत्र अधिकारी एस आर निराला सहित वन अमला अतिक्रमण रोकने स्थल पर पहुंचा।

- Advertisement -

भजपुरी के कक्ष क्रमांक 265 में 0.544 हेक्टेयर वन भूमि में लगे मिश्रित प्रजाति के वनों की कटाई ग्राम भोजपुरी के गर्मीण करते मिले। इन्हें रोक कर पूछताछ करने पर कुल 44 ग्रामीण यहां अतिक्रमण कर रहे थे।

ग्रामीणों के कब्जे से जंगल काटने में प्रयुक्त 39 नग कुल्हाड़ी जब्त कर पिथौरा वन काष्ठागार में रखा गया है। अतिक्रमण स्थल से 30 से 45 सेंटीमीटर गोलाई के 38 नग ठूठ एवं बल्ली, 20 सेंटीमीटर से नीचे मोटाई के कोराई लगभग दो ट्रैक्टर ट्राली जब्त किए गए हैं|

कार्यवाही में क्षेत्र के एस डी ओ श्री बसन्त,परिक्षेत्र अधिकारी श्री निराला के साथ वन अमला मौजूद था। हिरासत में लिए गये ग्रामीणों को वन विभाग द्वारा अतिक्रमणकारियों पर भारतीय वन अधिनियम 1927 की धारा 26–1 (छ)  (ज) एवं संपत्ति क्षति निवारण अधिनियम 1984 की धारा 3(1) का उल्लंघन के अपराध में गिरफ्तार करते हुए न्यायालय प्रथम श्रेणी पिथौरा में पेश किया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.