फसल बीमा: सख्त हुए मुख्यमंत्री तो खाते में पहुंचने लगी बीमा राशि- द्वारिकाधीश 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा फसल बीमा के मामले में कड़े निर्देश देने के बाद बीमा कंपनियां और प्रशासनिक अमले के द्वारा फसल बीमा के मामले को प्राथमिकता के आधार पर कार्यवाही प्रारंभ हो चुकी है और अब किसानों के खाते में फसल बीमा की राशि आनी शुरू हो गई है।

0 26

- Advertisement -

पिथौरा| मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा फसल बीमा के मामले में कड़े निर्देश देने के बाद बीमा कंपनियां और प्रशासनिक अमले के द्वारा फसल बीमा के मामले को प्राथमिकता के आधार पर कार्यवाही प्रारंभ हो चुकी है और अब किसानों के खाते में फसल बीमा की राशि आनी शुरू हो गई है। जिसके लिए संसदीय सचिव श्री यादव सहित क्षेत्र के किसानों ने राज्य के यशस्वी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी एवं कृषि मंत्री रविंद्र चौबे जी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया है।

बता दें संसदीय सचिव द्वारकाधीश यादव के पास जब से किसानों की गुहार पहुंची थी तब से वे सतत किसानों को फसल बीमा की राशि दिलाने के लिए प्रयासरत थे और उनके प्रयासों को आप सफलता मिल गई है किसानों के खाते में फसल बीमा की राशि आनी शुरू हो चुकी है। श्री यादव के प्रयासों के चलते महासमुंद जिले के 211 ग्राम और सहित खल्लारी विधानसभा क्षेत्र के 79 ग्राम लाभान्वित होंगे।

संसदीय सचिव द्वारिकाधीश यादव के प्रयासों को मिली सफलता

बता दें संसदीय सचिव श्री यादव ने किसानों के फसल बीमा के मामले में राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा कृषि मंत्री रविंद्र चौबे को पत्र लिखा था साथ ही साथ महासमुंद कलेक्टर एवं कृषि विभाग के संचालक व उप संचालक को भी फसल बीमा का निपटारा अति शीघ्र करने के लिए कहा था ।

- Advertisement -

इसके बाद छत्तीसगढ़ के यशस्वी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीमा कंपनियों को फटकार लगाई थी और कड़े निर्देश जारी किए थे।

मुख्यमंत्री के द्वारा जारी किए गए कड़े निर्देशों का असर अब दिखाई देने लगा है और किसानों के खाते में राशि आने लगी है जिसके चलते किसानों ने संसदीय सचिव श्री यादव के प्रति आभार व्यक्त किया है।

इन गांवों के किसानों को मिलेगा फसल बीमा की राशि

किसानों की समस्या के निदान के दौरान प्रारंभिक तौर पर ऑब्जेक्शन वाले निम्नलिखित ग्रामों की जानकारी संसदीय सचिव श्री यादव को प्राप्त हुई थी। वे गांव हैं- आमानारा, आमागांव, अमुरदा, बागबाहरा कला, बाम्हन डीह, बरबसपुर, बिजरा डीह, बिराजपाली, चंदरपुर, छिबर्रा, चिखली, चिंगरिया, चोर भट्टी, देवरी, डोंकर पाली, डोंगरीपाली A, डोंगरीपाली, डूमरपाली ,गबौद, घुंचापाली, घुंचा पाली कला,घोयनाबाहरा कला, हाथीगढ़, जुनवानी कला, जूनवानीखुर्द, कछारडीह,कमरौद, कन्हारपुरी करमापटपर, केरामुड़ा खुर्द,खल्लारी, खम्हारगुड़ा रे, खट्टाडीह, खुर्सीपार, खुसरूपाली,खुटेरी, कोचर्रा, कोल्दा, कोमाखान, लुकुपाली, मामा भाचा, मोहगांव, मोगरापाली, मुड़पार, पंडरा चुवां, पटपर पाली, पोटिया, साल डबरी, सालहेभाटा, समहर, सराईपाली, सिवनी कला, सिवनी खुर्द, सिर्रीपठारीमुड़ा, तमोरा,टेड़ी नारा, टुहलु, उखरा।
वही पिथौरा विकासखंड से बगार पाली, बेलर बिराजपाली, दादर गांव, धनोरा, दुरुगपाली,फरौदा, मोरिया, घोघरा, घोंच, हनुमानडीह, कारी डोंगर, कसहीबाहरा, कौहाकूड़ा, खपराखोल सरागतोरा, सोना सिल्ली, ठाकुरदिया कला।
विधानसभा क्षेत्र के उपरोक्त गांव फसल बीमा की राशि से वंचित हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.