आयकर छापा: फर्जी खरीद, बेहिसाब निवेश और करोड़ों की बेहिसाब नकदी

आयकर विभाग ने पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और गुजरात में मारे  गये छापे में फर्जी खरीद, बेहिसाब निवेश और करोड़ों की बेहिसाब नकदी पाई है |

0 49

- Advertisement -

आयकर विभाग ने पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और गुजरात में मारे  गये छापे में फर्जी खरीद, बेहिसाब निवेश और करोड़ों की बेहिसाब नकदी पाई है |

आयकर विभाग ने 07.12.2021 को रिफाइंड लेड, लेड एलॉय तथा लेड ऑक्साइड के दो प्रमुख विनिर्माताओं एवं आपूर्तिकर्ताओं के विरोध तलाशी अभियान शुरू किया। तलाशी कार्रवाई में पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश राज्यों में इनके 24 परिसरों को शामिल किया गया।

तलाशी एवं जब्ती की कार्रवाई के दौरान यह पाया गया है कि ये समूह फर्जी खरीद तथा महंगी कीमत पर खरीद का सहारा लेकर कर योग्य आय को छिपाने में लिप्त हैं।

जांच में स्पष्ट रूप से पता चला है कि इन दोनों समूहों ने विभिन्न व्यक्तियों, मालिकाना संस्थाओं तथा कंपनियों के नाम पर लगभग 250 करोड़ रुपये की फर्जी खरीद दर्ज की है।

तलाशी अभियान के दौरान जुटाए गए सबूतों से आगे पता चलता है कि ऐसी फर्जी खरीदारी करने के लिए स्टॉक रजिस्टर, परिवहन दस्तावेज, ई-वे बिल आदि तैयार किए गए हैं। आवास प्रवृष्टि करने वाले कई लोगों ने स्वीकार किया है कि उन्होंने सामग्री की आपूर्ति के बिना फर्जी बिल सौंपें हैं।

समूहों में से एक के व्यावसायिक परिसर से जब्त किए गए दस्तावेजों का विश्लेषण करने पर पता चला है कि कच्चे माल की खरीद के दौरान व्यवस्थित तरीके से अधिक व्यय दर्ज किया गया है। निर्धारिती समूह के प्रमुख व्यक्तियों द्वारा अतिरिक्त राशि नकद रूप में वापस प्राप्त की जाती है।

समूह के कर्मचारियों में से एक ने स्वीकार किया है कि वास्तव में आपूर्ति की गई सामग्रियों के स्थान पर बेहतर गुणवत्ता वाली सामग्रियों के लिए अधिक कीमत दर्ज करके व्यय को बढ़ाकर दिखाया गया है।

अचल संपत्तियों में नकद में किए गए बेहिसाब निवेश का संकेत देने वाले भौतिक दस्तावेजों और डिजिटल डेटा के रूप में आपत्तिजनक साक्ष्य भी पाए गए हैं और उन्हें जब्त किया गया है।

- Advertisement -

तलाशी कार्रवाई में करीब 53 लाख रुपये मूल्य के जेवरात जब्त किए गए हैं, जबकि चार बैंक लॉकरों की जांच होना बाकी है। आगे की जांच जारी है।

गुजरात में आयकर विभाग ने 03.12.2021 को आवासीय एवं वाणिज्यिक परिसरों के निर्माण, भूमि संबंधी लेनदेन के साथ-साथ रियल एस्टेट वित्तपोषण के व्यवसाय में लगे सूरत के एक प्रमुख समूह पर तलाशी एवं जब्ती कार्रवाई की। इस तलाशी कार्रवाई में सूरत तथा मुंबई के 40 से अधिक परिसरों को शामिल किया गया।

तलाशी कार्रवाई के दौरान, समूह की कंपनियों के मामले में बही-खाते की समानांतर सेट सहित विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेजी और डिजिटल साक्ष्य मिले हैं, जिन्हें जब्त किया गया है। समूह की कुछ कंपनियों के लेन-देन को जटिल कोडके रूप में रखा गया था, किंतु कार्रवाईदस्ते द्वारा सफलतापूर्वक डिकोड किया गया।

आयकर छापा : गुजरात में गुटखा वितरक के पास 100 करोड़ से अधिक की बेहिसाब आय

इन साक्ष्यों के प्रारंभिक विश्लेषण से पता चलता है कि फ्लैट/भूमि की बिक्री पर 300 करोड़रुपये से अधिक की बेहिसाब नकद प्राप्ति की गई,जिसे नियमित बही-खाते में दर्ज नहीं पाया गया। हिस्सेदारों द्वारा बेहिसाब नकदी डालने, नकद भुगतान द्वारा फर्जी आवास ऋण की प्रवृष्टितथाबिना विवरण के नकद व्यय आदि के साक्ष्य भी पाए गए हैं।

इसके अलावा, बही-खाते की गहन जांच तथा तलाशी कार्रवाई के दौरान जब्त किए गए साक्ष्यों से अचल संपत्ति में बिना विवरण 200 करोड़रुपये से अधिक निवेश और 100 करोड़ रुपये से अधिक ऋण वित्तपोषण कापता चलता है।

तलाशी कार्रवाई में 4 करोड़ रुपये की बेहिसाब नकदी तथा3 करोड़ रुपये मूल्य के आभूषणों को जब्त किया गया है, जबकि एक दर्जन से अधिक बैंक लॉकरों पर रोक लगा दी गई है।

तलाशी कार्रवाई से कुल मिलाकर 650 करोड़ रुपये की अनुमानित अघोषित प्राप्तियों और संदिग्ध प्रकृति कीप्रविष्टियों का पता चला है। (pib)

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.