छत्तीसगढ़ : 2828 नए मरीज़, रायपुर में 3 मौतें

छत्तीसगढ़ में आज शुक्रवार को 2828 नए मरीज़ की पहचान की गई| प्रदेश में कोरोना संक्रमित 3 मरीज की मौत हुई है| वहीं 46 मरीज स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज/रिकवर्ड हुए।

0 24

रायपुर| छत्तीसगढ़ में आज शुक्रवार को 2828 नए मरीज़ की पहचान की गई| प्रदेश में कोरोना संक्रमित 3 मरीज की मौत हुई है| वहीं 46 मरीज स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज/रिकवर्ड हुए।

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर कोरोन का हॉटस्पॉट बना हुआ है | जहाँ रायपुर में अकेले 899 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले  वहीं 3 लोगों की मौत भी दर्ज की गई |

स्वास्थ्य विभाग के  मेडिकल बुलेटिन  के मुताबिक प्रदेश में आज 2828 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान की गई है| वहीं 46 मरीज स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज/रिकवर्ड हुए। वही राज्य में कोरोना संक्रमित 3 मरीज की मौत हुई है| रायपुर  के बाद  , रायगढ़ में 364, दुर्ग में 293, बिलासपुर में 279, कोरबा में 268, जांजगीर चांपा में 142, राजनांदगांव में 60 मरीज मिले हैं।

छत्तीसगढ़ में कोरोना की रफ्तार  

  • 1 जनवरी – 279
  • 2 जनवरी- 290
  • 3 जनवरी – 698
  • 4 जनवरी -1059
  • 5 जनवरी – 1615
  • 6 जनवरी- 2400
  • 7 जनवरी-  2828

इधर नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने  आज अपने प्रभार के तीन जिलों सरगुजा, सूरजपुर और बलरामपुर में कोविड संक्रमण से बचाव और उपचार के लिए की जा रही तैयारियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की । वर्चुअल बैठक में स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव, संसदीय सचिव श्री पारसनाथ राजवाड़े, विधायक श्री चिन्तामणि महाराज और श्री बृहस्पति सिंह भी शामिल हुए।

डॉ. डहरिया ने वर्चुअल बैठक में अधिकारियों से कहा कि कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन कराया जाए। नागरिकों को कोविड टीकाकरण के लिए प्रेरित किया जाए। इसी प्रकार स्कूली बच्चों का भी अधिक से अधिक टीकाकरण कराया जाए।

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले लोगों की कोरोना जांच करायी जाए। सार्वजनिक स्थानों रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड आदि में कोरोना जांच की व्यवस्था की जाए। कोरोना से बचाव और उपचार के लिए स्थानीय स्वयंसेवी संस्थाओं और जनप्रतिनिधियों का सहयोग लिया जाए।

वहीं कोरोना से बचाव के लिए प्रदेश में 15 से 18 वर्ष के किशोरों का तेजी से टीकाकरण किया जा रहा है। विगत 3 जनवरी को इस आयु वर्ग के टीकाकरण की शुरूआत के बाद पहले चार दिनों में ही कुल लक्ष्य के 38 प्रतिशत किशोरों को टीका लगाया जा चुका है।

मुंगेली, राजनांदगांव, धमतरी और महासमुंद जिले में शुरूआती चार दिनों में ही कुल लक्ष्य के आधे से ज्यादा किशोरों का टीकाकरण किया जा चुका है। वहीं बालोद, बेमेतरा, कांकेर, गरियाबंद और कोंडागांव भी इसके करीब है।

प्रदेश में कुल 16 लाख 39 हजार 811 किशोरों के टीकाकरण के लक्ष्य के विरूद्ध अब तक (6 जनवरी तक) छह लाख 18 हजार 089 को कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लगाया जा चुका है।

रायगढ़ जिले में की जा रही तैयारियों की स्कूल शिक्षा मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेम साय सिंह ने विस्तृत समीक्षा की। वर्चुअल रूप से आयोजित समीक्षा बैठक में डॉ. टेकाम अपने निवास कार्यालय से शामिल हुए।

उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण के बचाव एवं उपचार के सभी कार्यों को मिशन मोड में किया जाए, जिससे लोगों को बेहतर और त्वरित सुविधा पहुंचाई जा सके। उन्होंने कहा कि कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए सभी प्रकार की आर्थिक गतिविधियों का संचालन किया जाए। दैनिक उपयोग की आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी, मुनाफाखोरी करने वालों पर कड़ी निगरानी रखी जाए। उन्होंने जिले के कलेक्टर सहित स्वास्थ्य विभाग के अमले को कोविड प्रोटोकाल का पालन कराने के लिए दिशा-निर्देश दिए।

रायगढ़ जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. टेकाम ने कहा कि रायगढ़ जिले में औद्योगिक गतिविधियों की अधिकता होने के कारण बाहर से आने वाले लोगों के कोरोना टेस्ट पर विशेष ध्यान दिया जाए। सीमावर्ती और विदेशों से आने वाले लोगों की कोरोना जांच की जाए।

आवश्यकतानुसार क्वारेंटाईन सेंटर भी स्थापित किए जाए। अस्पतालों में कोरोना मरीजों की देखभाल और उपचार के लिए तय किए गए वार्डों में चिकित्सा उपकरणों की जांच कर उन्हें दुरूस्त कर लिया जाए। अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सहित सभी आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित कर ली जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.